नेहरु ने IIM और IIT जैसे संस्थान बनवाए और मोदी ने जिओ इंस्टिट्यूट, अपनी अपनी औकात की बात है : संजीव भट्ट

नेहरु ने IIM और IIT जैसे संस्थान बनवाए और मोदी ने जिओ इंस्टिट्यूट, अपनी अपनी औकात की बात है : संजीव भट्ट

मोदी सरकार ने रिलायंस ग्रुप के जियो इंस्टिट्यूट को इंस्टीट्यूट ऑफ एमनंस लिस्ट में शामिल कर लिया है। वो भी तब जब न तो जियो इंस्टिट्यूट बना भी नहीं है,क्योंकि ये कंपनी फ़िलहाल कागज़ी है। वही इस लिस्ट में दो और निजी यूनिवर्सिटी के नाम है। वही सोशल मीडिया पर इसे लेकर अब मजाक भी बनाने लगा है। आईपीएस संजीव भट्ट ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

संजीव भट्ट ने सोशल मीडिया पर लिखा नेहरु ने आईटी बनाये और आईआईएम मोदी ने जिओ इंस्टिट्यूट अपनी अपनी औकात की बात है। अब इसे मजाक कहा जाये या फिर कुछ और मगर मोदी सरकार पर इससे पहले भी मुकेश अंबानी को फायदा पहुँचाने के आरोप लगते रहे है।

 

 

 

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने तीन सार्वजनिक और तीन निजी यूनिवर्सिटीज को इंस्टीट्यूट ऑफ एमनंस लिस्ट में शामिल किया गया। इंस्टीट्यूट ऑफ एमनंस संस्थानों के स्तर और उसकी क्वालिटी को तेजी से बेहतर बनाने में मदद करती है और सिलेबस को भी जोड़ा जायेगा। जिओ इंस्टिट्यूट पर सवाल उठने लगे है क्योंकि ये कंपनी फ़िलहाल कागज़ी है।

बता दें कि यूजीसी के अनुसार जियो इंस्टिट्यूट के पास जियो इंस्टिट्यूट तीन साल बाद ही वजूद में आएगा तो इसके पास अधिक एटोनॉमी होगी। जिओ को ग्रीन फ़ील्ड कैटेगरी के अधीन चुना गया है।

इन्टरनेट पर अगर दो और कॉलेज के वेबसाइट पर जाकर देखें तो Bits pilani की वेबसाइट पर कोर्स की जानकारी है। मगर जिओ इंस्टिट्यूट की वेबसाइट ही नहीं और न ही उसने कोर्स की जानकारी दी है इसीलिए इसे प्रोजेक्टेड संस्थान कहा गया है।

 

Courtesy: Boltaup

Categories: India

Related Articles