सुप्रिम कोर्ट ने मोदी सरकार को लगाई फटकार, कहा ‘हमारा ताजमहल एफ्फिल टॉवर से भी ज्यादा खूबसूरत लेकिन….’

सुप्रिम कोर्ट ने मोदी सरकार को लगाई फटकार, कहा ‘हमारा ताजमहल एफ्फिल टॉवर से भी ज्यादा खूबसूरत लेकिन….’

नई दिल्ली – देश की एतिहासिक धरोहरों की देश के अंदर जैसी अनदेखी होती है वैसी बहुत कम देशों में होती होगी। ताजा मामला ताजमहल का जिसे लेकर सुप्रिम कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है, बता दें कि इस मामले में सरकार की हमेशा किरकिरी होती रही है लेकिन अधिकारी और नेता कुछ करते नज़र नहीं आते। सुप्रिम कोर्ट के आदेश की अनदेखी के पीछे कहीं न कहीं इस मामले में इच्छाशक्ति की भारी कमी है। सुप्रीम कोर्ट ने इस बात पर केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश की सरकार को जबरदस्त फटकार लगाई है।

 

क्या है पूरा मामला

उत्तप प्रदेश के आगरा स्थित ताजमहल पूरी दुनिया के लिए एक ऐसी इमारत है कि लोग यहां ज़रूर आना चाहते हैं। मुगल बादशाह शाहजहां की बनवाई इस इमारत की देखरेख में केंद्र और राज्य सरकार कहीं न कहीं पीछे रह जा रही हैं। इसी कारण इस एतिहासिक इमारत को कई तरह के खतरे हो गए हैं। सुप्रिम कोर्ट ने ने इस बार पर योगी सरकार को फटकारा कि ताजमहल की सुरक्षा और संरक्षण को लेकर जो विज़न डॉक्यूमेंट पेश होना था अब तक पेश क्यों नहीं हुआ। इतना ही नहीं अदालत ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार को भी फटकार लगाते हुए कहा कि जब संरक्षण नहीं कर पा रहे तो इसे गिरा दो।

सुप्रिम कोर्ट के जस्टिस मदन बी. लोकुर और जस्टिस दीपक गुप्ता की बेंच ने कहा कि सरकार किसी तरह के ठोस नियम क्यों नहीं उठा पा रही ताजमहल के संरक्षण के लिए। सुप्रीम कोर्ट ने इस बात को लेकर भी नाराज़गी जताई कि ताजमहल के पास उद्योगों को अनुमाती क्यों दी गयी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि केंद्र सरकार और राज्य सरकार को पेरिस की एफ्फिल टॉवर के संरक्षण के तरीकों से सीखना चाहिए।

सुप्रिम कोर्ट ने कहा कि जिस तरह फ़्रांसिसी सरकार ने एफेल टॉवर का संरक्षण किया है उससे भारत सरकार को सीखना चाहिए। सुप्रिम कोर्ट ने कहा कि हमारा ताजमहल तो एफेल टॉवर से भी सुंदर है लेकिन फ़्रांस की सरकार ने अपने यहां बेहतरीन इंतजाम किये और लाखों पर्यटक वहां जाते है ताजमहल तो उससे कहीं ज़ुयादा खूबसूरत है अगर सही से भारत सरकार इसकी देखभाल करे तो ये विदेशी मुद्रा लाने का बड़ा माध्यम बन सकता है।

Categories: Politics

Related Articles

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*