मध्यप्रदेशः ढ़ह गया भाजपा का सबसे मज़बूत क़िला, निकाय चुनाव में 23 साल बाद कांग्रेस ने किया भाजपा का सूपड़ा साफ

मध्यप्रदेशः ढ़ह गया भाजपा का सबसे मज़बूत क़िला, निकाय चुनाव में 23 साल बाद कांग्रेस ने किया भाजपा का सूपड़ा साफ

भोपाल – मध्य प्रदेश भाजपा का मजबूत किला माना जाता है,  इस साल के आखिर में यहां विधानसभा चुनाव होने  हैं, लेकिन इस बार भाजपा के लिए स्थिति अच्छी नही लग रही है. कांग्रेस के लिए मध्यप्रदेश से एक अच्छी खबर आई है वहीं भाजपा के लिए बुरा समाचार है. दरअसल मध्यप्रदेश में कांग्रेस ने पंचमढ़ी छावनी परिषद के चुनावों में 7 सीटों में से 6 सीटों पर जीत कर विजय पताका फहरा दिया है। सिर्फ एक सीट पर ही भाजपा समर्थित उम्मीदवार मामूली अंतर से जीत हासिल कर पाये हैं

बता दें कि पंचमढ़ी छावनी परिषद में 23 साल बाद कांग्रेस को यह जीत नसीब हुई है. इस नतीजे को कांग्रेस अपने लिए अच्छा संकेत मान रही है. कांग्रेस ने दावा किया है कि भाजपा के गढ़ में कांग्रेस की जीत जनता में परिवर्तन की तरफ इशारा कर रही है. इस चुनाव नतीजे से भाजपा को तगड़ा झटका लगा है. गौरतलब है कि छावनी परिषद में अध्यक्ष सेना के पदेन अधिकारी ही होते हैं. बीते रविवार को छावनी परिषद में सात वार्डों के लिए मतदान संपन्न हुआ था

जानकारी के अनुसार, 4495 मतदाताओं ने सुब्ह 8 बजे से लेकर शाम के पांच बजे तक मतदान किया था. रात नो बजे इसके नतीजे घोषित किए गए हैं, जिसमें कांग्रेस ने शानदार जीत दर्ज़ की है. पंचमढ़ी मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में है, यह राज्य का जाना माना टूरिस्ट सेंटर है. अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण ही पंचमढ़ी में हजारों पर्यटक आते है

इस बार कांग्रेस जहां ज़ोरदार तरीके से तैयारी कर रही है वहीं भाजपा भी कोई कोर कसर नही छोड़ रही है. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में रहकर ही चुनावी रणनीति बनायेंगे. राज्य में चुनाव मद्देनजर कांग्रेस ने छिंदवाड़ा से सांसद और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व केन्द्रीय मंत्री कमलनाथ को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है,  वहीं गुना से सांसद पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को चुनाव प्रचार की कमान सौंपी गई है.

Courtesy: nationalspeak.

Categories: India

Related Articles