राजस्थान: BJP अध्यक्ष का ‘दिव्य’ ज्ञान, मरते समय हुमायूं ने बाबर को दी थी गाय का सम्मान करने की सलाह, यूजर्स बोले- ‘जियो यूनिवर्सिटी के लिए इतिहास के प्रोफेसर मिल गए’

राजस्थान: BJP अध्यक्ष का ‘दिव्य’ ज्ञान, मरते समय हुमायूं ने बाबर को दी थी गाय का सम्मान करने की सलाह, यूजर्स बोले- ‘जियो यूनिवर्सिटी के लिए इतिहास के प्रोफेसर मिल गए’

पिछले दिनों त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने महाभारत काल में इंटरनेट और सैटेलाइट होने का दावा कर सुर्खियों में आए थे। वहीं, अब राजस्थान के नव नियुक्त भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी अपने एक अजीबोगरीब बयान देकर चर्चा में आ गए हैं। सैनी ने इतिहासकारों को नया ज्ञान देते हुए कहा है कि मुगल बादशाह हुमायूं ने मरते वक्त अपने पिता बाबर को भारत में राज करने के गुर बताए थे।

सैनी ने कहा कि जब हुमायूं मर रहा था, उस वक्त उसने बाबर से कहा कि अगर तुम्हें हिंदुस्तान पर राज करना है तो गाय, ब्राह्मण और महिला इन तीनों की हमेशा ही इज्जत करना। मदन लाल सैनी दरअसल पत्रकारों को गाय का ऐतिहासिक महत्व समझाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन वह खुद ऐतिहासिक तथ्यों में उलझ गए।

टाइम्स नाउ चैनल से हुई बातचीत में सैनी ने कहा, “मुझे याद आता है. जब हुमायूं मर रहा था, उस समय, उसने बाबर को बुलाया. हुमायूं ने बाबर को बुलाकर कहा अगर तुमको हिंदुस्तान में शासन करना है तो तीन चीजों का ध्यान रखना, एक तो गाय, ब्राह्मण और महिला, इनका अपमान नहीं होना चाहिए, हिंदुस्तान इनको सहन नहीं करता है।”

बता दें कि राजस्थान में कुछ ही महीनों में विधानसभा के चुनाव होने हैं। इसी को देखते हुए बीजेपी ने हाल ही में मदन लाल सैनी को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। पार्टी को उम्मीद है कि सैनी के नेतृत्व में वह अपनी सत्ता बरकरार रख पाएगी, लेकिन सैनी द्वारा दिया गया यह हास्यास्पद ‘ज्ञान’ पार्टी के लिए असहज स्थिति उत्पन्न कर दी है।

दरअसल सैनी का यह बयान ऐतिहासिक तथ्यों पर खरा नहीं उतरता है। बीजेपी अध्यक्ष को शायद मालूम नहीं है कि हुमायूं, बाबर का पिता नहीं बल्कि बेटा था। दूसरा ये कि बाबर ने हुमायूं को गाय के संबंध में कोई हिदायत दी थी इसका कहीं भी इतिहास में जिक्र नहीं मिलता है।

हुमायूं के पिता बाबर की मौत 1531 में हुई थी। जबकि इसके करीब 25 साल बाद 1556 में हुमायूं की मृत्यु हुई थी। यह तथ्य भी सैनी को गलत साबित करता है। ऐसे में हुमायूं की मौत के वक्त बाबर का उसके पास होना पूरी तरह से नामुमकिन है। मदन लाल सैनी ने जो बात बताई है, वह इतिहास के आईने में एकदम गलत साबित होती है।

मदन लाल सैनी के इस दिव्य ज्ञान पर सोशल मीडिया यूजर्स जमकर मजा ले रहे हैं।

 

Courtesy: .jantakareporter

Categories: India

Related Articles