मुजफ्फरपुर सरकारी बलात्कार मामले में आया नया मोड़, हुआ सनसनी ख़ुलासा, राजनीति में हड़कंप

मुजफ्फरपुर सरकारी बलात्कार मामले में आया नया मोड़, हुआ सनसनी ख़ुलासा, राजनीति में हड़कंप

अभी हल ही में मुजफ्फरपुर में एक बालिका गृह में बच्चियों के साथ रेप की घटना सामने आई थी जिसके बाद इस मामले की जांच सीबीआई को दे दी गयी और एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया जिसका नाम ब्रिजेश ठाकुर है गिरफ्तार व्यक्ति उस बालिका गृह का संरक्षक था जिसमे लड़कियों को रखा जाता था

सीबीआई इस मामले में ब्रिजेश ठाकुर से पूछताछ कर रही है और उसे इस मामले में एक और अहम् सुराग हाथ लगा है दरअसल सीबीआई को ब्रिजेश के तीन नंबरों की काल डिटेल मिल गयी है जो कि ब्रिजेश की मुश्किलें बढ़ा सकती हैं.

गौरतलब हो कि इस मामले में सीबीआई को जो काल डिटेल मिली है उसमे ब्रिजेश के कई सफेदपोश लोगो से संपर्क सामने आये हैं जो कि मुजफ्फरपुर से पटना तक हैं और अब सीबीआई इन काल डिटेल के आधार पर ब्रिजेश से ब्यौरा मांगेगी इसके आलावा समाज कल्याण विभाग से सीबीआई ने ब्रिजेश की एनजीओ से जुड़े जो दस्तावेज़ मांगे थे

वो भी उसे मिल गए हैं इन दस्तावेजों में एक बात एकदम साफ़ है कि ब्रिजेश की एनजीओ को जो भी फण्ड मिले हैं उन्हें देने में नियमो की खुली अनदेखी की गयी है.

अब समाज कल्याण विभाग के अधिकारीयों को भी जांच से गुज़रना पड़ेगा और जल्द ही उनसे भी पूछताछ की जायेगी वहीँ इस मामले को लेकर अब राजनीति भी बहुत गर्मा रही है विपक्ष का कहना है कि ब्रिजेश की सत्ता पक्ष से सांठगांठ थी जो कि सीबीआई की जांच के साथ और तल्ख़ होती दिख रही है

आपको जानकर हैरानी होगी कि इस बालिका गृह में रहने वाली बच्चियों में से 34 बच्चियों के साथ रेप की पुष्टि हो गयी है जिसके बाद ब्रिजेश ठाकुर और अन्य आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया है वहीँ बिहार सरकार को इस घटना के बाद बहुत परेशानियों के सामना करना पड़ रहा है और राजद के दिग्गज नेता तेजस्वी यादव लगातार नितीश कुमार की सरकार पर ब्रिजेश को संरक्षण देने का आरोप लगा रहे हैं हालाँकि नितीश ने इन आरोपों को सिरे से ख़ारिज कर दिया है

Courtesy: theakhbaar

Categories: Crime

Related Articles