योगी आदित्यनाथ के बयान से मोदी और शाह सदमे में ,अब दोबारा नही …

योगी आदित्यनाथ के बयान से मोदी और शाह सदमे में ,अब दोबारा नही …

अयोध्या का राम मंदिर मुद्दा बीजेपी का सबसे चहेता चुनावी मुद्दा है जैसे जैसे देश में चुनाव नजदीक आने लगते हैं। बीजेपी को अयोध्या में राम मंदिर बनाने की याद आने लगती है। हाल ही में हिंदूवादी संगठनों से जुड़े कई कार्यकर्ताओं और नेताओं ने उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ योगी सरकार और केंद्र की मोदी सरकार को राम मंदिर निर्माण के लिए अल्टीमेटम दे दिया है।

राम मदनदिर निर्माण पर घिरी बीजेपी

हिंदूवादी संगठनों का कहना है कि अगर बीजेपी ने अभी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण नहीं शुरू किया तो वह खुद जाकर वहां पर मंदिर बनाएंगे। इस मामले में हिंदू संगठनों से जुड़े कार्यकर्ताओं में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को घेरा डाला था। उन्होंने और योगी आदित्यनाथ से यह सवाल किया है कि केंद्र और राज्य में बीजेपी की सरकार होने के बावजूद अभी तक राम मंदिर क्यों नहीं बनाया गया है। जबकि लोकसभा और उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान उन्होंने राम मन्दिर बनाने का वादा किया था।

सीएम योगी से नाराज़ साधू समाज

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ताजा बयान जिससे साधु-संतों में नाराजगी है। दरअसल योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि राम मंदिर निर्माण सुप्रीम कोर्ट के बाद ही किया जा सकता है। क्योंकि ये मामला कानून के अंदर आता है। जिसके बाद सीएम योगी से नाराज़ चल रहे कार्यकर्ता का कहना है कि अगर राम मंदिर नहीं बनाया गया तो अब आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी को सत्ता नहीं मिलने वाली है।

रामलला सत्ता छीन लेंगे

योगी आदित्यनाथ के इस बयान से भड़के श्री रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सतेंद्र दास बीजेपी पर निशाना साधा है। उन्होंने बीजेपी से सवाल किया है कि साल 2014 और साल 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान आपके घोषणा पत्र में राम मंदिर था, उसका क्या होगा।

२०१९ में बीजेपी नहीं जीतेगी चुनाव

इसके साथ उन्होंने दावा किया है कि अगर रामलला सत्ता भी देते हैं और सत्ता छीन भी लेते हैं। 2019 की सत्ता बीजेपी को मिलने वाली नहीं है। दो सांसदों से लेकर सत्ता तक बीजेपी को भगवान राम ने भेजा है। चुनाव जीतने के बाद इन नेताओं की भाषा ही बदल जाती है। गिरगिट के समान भाषा और स्वरूप बदलना भगवान राम के साथ धोखा है।

Courtesy: theakhbaar.

Categories: India

Related Articles

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*