इलाहाबाद विश्वविद्यालय में हार से बौखलाई ABVP ने की तोड़फोड़, नए अध्यक्ष के हॉस्टल में लगाई आग!

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में हार से बौखलाई ABVP ने की तोड़फोड़, नए अध्यक्ष के हॉस्टल में लगाई आग!

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में हार से बौखलाई ABVP ने की तोड़फोड़, नए अध्यक्ष के हॉस्टल में लगाई आग!

इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव के परिणाम आने के बाद एबीवीपी ने गुंडागर्दी चालू कर दी है। समाजवादी छात्र सभा की जीत और अपनी हार को पचा पाने में नाकाम एबीवीपी ने तोड़फोड़ और आगजनी शुरू कर दी है ।

कथित तौर पर, नवनिर्वाचित अध्यक्ष उदय प्रकाश यादव के हॉस्टल को आग लगा दी गई है।

भारी संख्या में तैनात पुलिस बल ने बलपूर्वक स्थिति नियंत्रण करने की कोशिश की है। फिर भी छात्रसंघ चुनाव में इस तरह की गुंडागर्दी का प्रदर्शन करके एबीवीपी ने दहशत का माहौल पैदा कर दिया है।

गौरतलब है कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रसंघ चुनाव परिणाम घोषित किए जा चुके हैं, जिसके मुताबिक समाजवादी छात्र सभा के उदय यादव विजेता घोषित हुए हैं। एबीवीपी उम्मीदवार अतेंद्र को 774 मतों से पीछे छोड़ते हुए समाजवादी छात्र सभा के उदय यादव ने यह जीत दर्ज की है।

जेएनयू में लेफ्ट यूनिटी के हाथों बुरी हार का सामना करने के बाद एबीवीपी को इलाहाबाद विश्वविद्यालय में भी जीत नसीब नहीं हुई । हालांकि परिषद सेक्रेट्री का पद जीतने में सफल हुई।

उपाध्यक्ष के पद पर 2157 मत पाकर एनएसयूआई के अखिलेश यादव विजयी घोषित हुए हैं।

इस चुनाव में एबीवीपी ना तो अध्यक्ष पद जीत सकी ना ही उपाध्यक्ष का पद, उसे एकमात्र पोस्ट सेक्रेट्री पर विजय के साथ संतोष करना पड़ा है। 2823 वोट पाकर शिवम सिंह विजयी हुए हैं।

जॉइंट सेक्रेटरी के पद पर भी समाजवादी छात्र सभा को जीत मिली है। विजेता सत्यम सिंह सन्नी को 3199 वोट मिले हैं।

चुनाव परिणाम के अनुसार समाजवादी छात्र सभा के दो उम्मीदवारों को विजय मिली है, NSUI के दो उम्मीदवारों और एबीवीपी के एक उम्मीदवार को जीत मिली है।

इस चुनाव में भी लेफ्ट यूनिटी का बुरा हाल रहा है और अध्यक्ष पद का उम्मीदवार 232 वोटों के साथ छठे नंबर पर रहा।

हालांकि उपाध्यक्ष और महामंत्री के पद पर परिणाम में लेफ्ट का प्रदर्शन संतोषजनक रहा है ।

चुनाव परिणाम आने के बाद समाजवादी छात्र सभा और एनएसयूआई जहां जश्न मना रहे हैं वहीं एबीवीपी की बौखलाहट साफ देखी जा रही है। जगह-जगह से हिंसा की खबरे आ रही हैं।

 

 

 

Courtesy: Bolta UP

Categories: Crime, Politics

Related Articles