जनता की राय पर आधारित होगा 2019 के लोकसभा चुनाव का कांग्रेस घोषणा-पत्र, पार्टी ने जारी की वेबसाइट

जनता की राय पर आधारित होगा 2019 के लोकसभा चुनाव का कांग्रेस घोषणा-पत्र, पार्टी ने जारी की वेबसाइट

कांग्रेस पार्टी का ये मानना है कि चुनाव घोषणापत्र तैयार करने की प्रक्रिया जल्दी शुरु होनी चाहिए क्योंकि कांग्रेस अध्यक्ष ने अनेक अवसरों पर ये कहा है कि कांग्रेस का चुनाव घोषणापत्र सभी वर्गों की आशाओं और आकांक्षाओं के अनुरूप होना चाहिए।

2019 के लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस अपने घोषणापत्र को लेकर गंभीरतापूर्वक तैयारियों में जुटी हुई है। उसका एक उदाहरण आज तब दिखा जब लोगों की राय लेने के लिए पार्टी ने अपनी वेबसाइट और व्हाट्सएप नम्बर जारी कर दिया। वेबसाइट manifesto.inc.in पर जाकर और 7292088245 पर व्हाट्सएप संदेश भेज कर कांग्रेस तक अपनी बात पहुंचाई जा सकती है। कांग्रेस कार्यकर्ता से लेकर आम लोग तक इसके जरिये अपनी राय और सलाह पार्टी तक पहुंचा सकेंगे, बाद में उन मुद्दों की समीक्षा कर कांग्रेस उन्हें अपने घोषणापत्र में स्थान देगी। महत्वपूर्ण यह है कि वेबसाइट में 16 भाषाओं का विकल्प दिया गया है।

कांग्रेस ने कहा कि लोकसभा चुनाव अभी दूर हैं, लेकिन कांग्रेस पार्टी का ये मानना है कि चुनाव घोषणापत्र तैयार करने की प्रक्रिया जल्दी शुरु होनी चाहिए क्योंकि कांग्रेस अध्यक्ष ने अनेक अवसरों पर ये कहा है कि कांग्रेस का चुनाव घोषणापत्र सभी वर्गों की आशाओं और आकांक्षाओं के अनुरूप होना चाहिए। ये घोषणापत्र भारत के लोगों से विचार-विमर्श के आधार पर तैयार किया जाएगा।

इस मौके पर कांग्रेस घोषणापत्र समिति के प्रमुख पी चिदंबरम ने कहा, “कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कई बार ये स्पष्ट किया है कि कांग्रेस का घोषणापत्र लोगों से बातचीत कर तैयार किया जाएगा। हम लोगों से पूछेंगे कि उन्हें कांग्रेस पार्टी से क्या उम्मीदें हैं? अगर कांग्रेस की सरकार बनती है तो लोग सरकार से क्या अपेक्षा करते हैं?”

चुनाव घोषणापत्र तैयार करने की प्रक्रिया में एक 22 सदस्य समिति गठित की गई है जिसके संयोजक प्रो राजीव गौड़ा होंगे। इस समिति को 20 विषयों पर आधारित अलग-अलग समूहों में विभाजित किया गया है और प्रत्येक समूह एक सदस्य के नेतृत्व में कार्य करेगा। इस संबंध में विचार-विमर्श की प्रक्रिया 1 अक्टूबर से शुरू हो चुकी है और इस प्रक्रिया के दिसंबर, 2018 तक पूरा होने की संभावना है।

कांग्रेस ने घोषणापत्र बनाने की प्रकिया को ‘जन-आवाज’ का नाम दिया गया है। जानकारी के मुताबिक देश के अलग-अलग हिस्सों में इसकी 31 बैठकें हो चुकी हैं। इस तरह की 150-160 बैठकें और होनी है। इस दौरान वेबसाइट और व्हाट्सएप से भी लोगों की राय पार्टी के पास आ जाएगी। इसके बाद इन सबकी समीक्षा कर घोषणापत्र का एक मसौदा तैयार किया जाएगा और कांग्रेस कार्यसमिति चर्चा के बाद उस पर मुहर लगाएगी।

इस दौरान बीजेपी पर निशाना साधते हुए चिदम्बरम ने कहा कि घोषणापत्र काफी अहम होता है। उसमें जुमले जैसे वादे नहीं होते।

Categories: India

Related Articles