PM मोदी की ‘मुद्रा योजना’ बनी बैंक घोटाला योजना, 11000 करोड़ के घोटाले का RTI से खुलासा

PM मोदी की ‘मुद्रा योजना’ बनी बैंक घोटाला योजना, 11000 करोड़ के घोटाले का RTI से खुलासा

नरेंद्र मोदी जब सत्ता में आए तो उन्होंने अपनी सरकार द्वारा बेहतर शासन के लिए कई नारे दिए। इनमें से गुड-गवर्नेंस भी एक नारा था।

लेकिन उनके सभी वादों और नारों की तरह ये नारा भी जुमला बनकर रह गया। प्रशासन-व्यवस्था गड़बड़ियों का शिकार हुई और अब उस से होने वाले घोटाले भी सामने आ रहे हैं।

बैंक घोटाला वो समस्या है जो मोदी सरकार के कार्यकाल में सबसे बड़ी समस्याओं में से एक रहा है। पिछले कुछ समय में कई बड़े उद्योगपति बैंकों का पैसा लेकर विदेश भागे। विजय माल्या और नीरव मोदी इनमें ज़्यादा चर्चित रहे।
अब इस तरह के बैंक घोटाले मोदी सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं में हो रहे हैं। सरकार की महत्वाकांक्षी योजना मुद्रा’ में भी ऐसे ही बैंक घोटाले सामने आए हैं। इन बैंक घोटालों की रकम 11000 करोड़ रुपए हैं। और इन्हें अंजाम देने वालो की संख्या 13.85 लाख।

मुद्रा योजना प्रधानमंत्री मोदी की महत्वाकांक्षी योजना है, जिसका ज़िक्र वह अक्सर बेरोज़गारी के सवाल पर करते हैं।
इस योजना में कम ब्याज़ दरों पर लोन दिया जाता है और लोन देने के बाद इस राशि के ज़रिए आवेदक को कुछ संपत्ति अर्जित करनी होती है। इस मामले में, मुद्रा के तहत दिए गए लोन से कोई संपत्ति नहीं बनाई गई।

‘द सन्डे स्टैण्डर्ड’ की खबर के मुताबिक, एक आरटीआई के जवाब में पता चला है कि मुद्रा योजना के अंतर्गत दिए गए लोन में से 11000 करोड़ रुपए के लोन बैड लोन में तब्दील हो गए हैं। मतलबी वो वसूल नहीं हो पा रहे हैं।

Categories: India

Related Articles