कर्जमाफी के लिए RBI को दबा रहे हैं मोदी, ऐसे ही नोटबंदी के लिए 2017 में ‘रघुराम राजन’ को हटाया था

कर्जमाफी के लिए RBI को दबा रहे हैं मोदी, ऐसे ही नोटबंदी के लिए 2017 में ‘रघुराम राजन’ को हटाया था

रिज़र्व बैंक और मोदी सरकार में तकरार की खबरों ने सियासत में एक बार फिर हलचलें पैदा कर दी है। जिस तरह से डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने सरकार पर आरबीआई के कामों में दखल देने की बात कही।

उसे देख लगता है कि अब सीबीआई के बाद आरबीआई भी मोदी सरकार के दबाव में काम करना नहीं चाहती है। इस मामले पर लेकर विपक्ष ने भी पीएम मोदी पर निशाना साधा है।

सीपीआईएम नेता और पूर्व राज्यसभा सांसद सीताराम येचूरी ने सोशल मीडिया पर लिखा- किसी की नहीं सुनी। सिर्फ़ जुमला कसना और लोगों से झूठे वायदे करना मोदी सरकार का उद्देश्य है।
आर॰बी॰आई॰ के पूर्व गवर्नर की राय के ख़िलाफ़ नोटबंदी लागू कर के अर्थव्यवस्था तहस-नहस कर दी। अब फिर विनाश की ओर।

वहीँ आरबीआई का कहना है कि जिस तरह से सरकार बैंकों से लिए कर्ज को माफ़ कर रही है उसका नतीजा आने वाले समय में खतरनाक साबित हो सकता है।

आरबीआई का कहना है कि मोदी सरकार बैंकों के काम में दखल न दे तो ही अच्छा है।

Categories: India

Related Articles