गोरखपुर की तरह असम के अस्पताल में 9 दिन के अंदर 16 नवजातों की मौत

गोरखपुर की तरह असम के अस्पताल में 9 दिन के अंदर 16 नवजातों की मौत

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर के बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज में नवजातों की मौत के बाद अब असम के जोरहाट मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (जेएमसीएच) में नवंबर में नौ दिनों के भीतर 16 नवजातों की मौत का मामला सामने आया है। हालांकि, राज्य स्वास्थ्य विभाग ने इसकी जांच के लिए एक टीम अस्पताल भेज दिया है। वहीं, अस्पताल प्रशासन ने भी इस मामले की जांच के लिए एक समिति गठित की है।

 

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, जेएमसीएच के अधीक्षक सौरभ बोरकाकोटी के अनुसार नवजात विशेष देखरेख इकाई में एक-छह नवंबर के बीच 15 नवजात बच्चों की मौत हुई है। बोरकाकोटी ने दावा किया कि यह मौत चिकित्सीय या अस्पताल की लापरवाही से नहीं हुई है।

उन्होंने कहा, ‘कभी-कभी अस्पताल में आने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा होती है इसलिए मरने वाले नवजात की संख्या ज्यादा हो सकती है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि मरीज को किस अवस्था में अस्पताल लाया गया। हो सकता है कि लंबे समय तक दर्द करने के बाद गर्भवती महिला को यहां लाया गया हो या बच्चे का वजन कम हो, इन परिस्थितियों में नवजात की मौत होती है।’

वहीं अस्पताल में नवजात शिशुओं की मौत पर असम के स्वास्थ्य मंत्री हिमंता विस्व शर्मा ने कहा कि जोरहाट में एक टीम को भेजा गया है। इस टीम में यूनीसेफ के सदस्य भी हैं, जो इस मामले की जांच करेगी और रिपोर्ट देगी।

बता दें कि, इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में कथित तौर पर ऑक्सीजन की आपूर्ति के कारण 400 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गई थी। इस मामले ने पूरे देश के हिला कर रख दिखा था।

 

Categories: Regional