वो तो था अलबेला, हज़ारों में अकेला: व्यथा, एक अंड भक्त की।

वो तो था अलबेला, हज़ारों में अकेला: व्यथा, एक अंड भक्त की।

वो मोदी जी का असाधारण भक्त था,
16 मई से पहले उसका एक ही काम था,
दूसरों के ट्वीट्स पे जाके गालियां देना,
दूसरों के फेसबुक पोस्ट पे जा नमो लिखना!

उसका मानना था, अगर मोदी जी प्रधान मंत्री बने तो,

उसे 15 लाख मिलेंगे

सिलिंडर 100 रुपये में भरा जाएगा,

पेट्रोल 20 रुपए लीटर!

सब्ज़ियां मिट्टी के भाव

सस्ता बिजली बिल

पीने का साफ़ पानी

युवाओं को नौकरी

कुंवारों को छोकरी

स्वच्छ भारत

साफ़ गंगा

पक्के मकान

अपनी दुकान

लहलहाते खेत-खलियान

राम का जन्म स्थान, मने अयोध्या

स्किल इंडिया

मेक इन इंडिया

स्टैंड अप इंडिया

स्टार्ट अप इंडिया

उड़ जा इंडिया

मर जा इंडिया

और न जाने क्या-क्या??? आह सांस फ़ूल गयी???

सारे कोंग्रेसी नेता जेल के अंदर होंगे,
मोदी भारत को अमेरिका बना देंगे,
भाइयों-बहनों को चाँद पर पहुंचा देंगे
पाकिस्तान को उल्टा टांग देंगे, लेकिन
चीन की #$%^^&** फाड़ देंगे

वगैहरा-वगैहरा

एक-एक कर टूट रहे उस बेचारे के सपने,
मोदी के वादे झूठे, वो हुए न अपने।
अब कभी-कभी वो सोशल साइट्स पर आता है,
और चुपके से गाली दे कर भाग जाता है,
वो आज अंदर ही अंदर रोता है,
रातों को न सोता है

पर अभी भी उसने हार नहीं मानी है,
जुमलेश्वर महाराज को बचाने की ठानी है।
मोदीजी की हर बात का बचाव करता है,
लोगो से बोलता फिरता है “मोदी जी को थोड़ा समय दो”,

वो रिपोर्टरों को अब गाली भी नहीं दे सकता,
कल तक वो जिन रिपोर्टरो को बिका बोलता था,
आज वो मोदी भक्ति में लीन, मोदी भजन गा रहे हैं,
उसे समझ नहीं आता वो आज किसे गाली दे!

कभी किसी को आपटार्ड तो किसी को खांगरसी बोल के निकल लेता है,
वो आज कल अपने पुराने ट्वीट्स डिलीट करने में BUSY रहता है,

मोदी जी के u -टर्न से तंग आकर,
अब उसने ट्वीटना ही छोड़ दिया है!
धीरे-धीरे उसने भी अंदर ही अंदर फेकेंद्र से मुंह मोड़ लिया है

ये थी व्यथा, एक अंड भक्त की,
अथ श्री नमो-भक्तम् कथा!

बोलो श्री जुमलेश्वर 420 महाराज की जय,
बोलो उनके अंड भक्तों की टैं।

BY: AASTHA AGNIHOTRI

Categories: Opinion

Write a Comment