बीजेपी सांसद पर होगी जमीन हड़पने की एफआईआर- कोर्ट ने दिए आदेश

बीजेपी सांसद पर होगी जमीन हड़पने की एफआईआर- कोर्ट ने दिए आदेश

भारतीय जनता पार्टी के एक सांसद समेत पांच लोगों पर फर्जी दस्तावेजों के सहारे जमीन हड़पने को लेकर अदालत ने केस दर्ज करने का आदेश दिया है। बांसगांव से सांसद कमलेश पासवान उनके दोस्त सतीश नागलिया और तीन अन्य पर कैंट पुलिस को केस दर्ज करने को कहा गया है। सभी पर आरोप है कि फरवरी 2015 में शॉपिंग कॉम्प्लेक्स की जमीन फर्जी कागजों के सहारे हथियाने की कोशिश की।

स्थानीय अदालत में शहर के प्रताप मार्केट निवासी नरेंद्र प्रताप की याचिका पर सुनवाई करते हुए केस दर्ज करने का आदेश दिया। नरेंद्र प्रताप का दावा है कि वह दो एकड़ जमीन के असली मालिक हैं। उन्होंने अदालत से कहा, कई बार शिकायत करने के बावजूद कोई एक्शन नहीं लिया गया। इस पर चीफ जूडीसियल मजिस्ट्रेट यासमीन अकबर ने कैंट पुलिस को एफआईआर दर्ज कर जांच करने को कहा है। साथ ही जल्द कॉपी कोर्ट में सबमिट करने को कहा है।
याचिका में बताया गया है कि, वादी नरेंद्र प्रताप जमीन के असली मालिक हैं। इस जमीन पर कुछ लोगों ने कब्जा कर बलदेव प्लाजा बना दिया। आरोप लगाया गया है कि शासन प्रशासन की शह पर फर्जी दस्तावेज के सहारे जमीन का मालिक साबित करने का प्रयास किया गया। याचिकाकर्ता ने अदालत को बताया कि, नई दिल्ली के नीतिबाग निवासी वाली सुधा प्रसाद और उनके दो बेटों ने फर्जी कागजों के सहारे 1999 में इस जमीन को हड़पने की कोशिश की थी। जांच के दौरान तत्कालीन एडीएम प्रशासन मुकेश मेश्राम ने पाया था कि जमीन फुद्दी सिंह के नाम पर दर्ज है।

वहीं, अपने ऊपर लगे आरोपों पर सांसद पासवान ने सफाई दी है। उन्होंने कहा है कि, लगाए गए आरोप राजनीति से प्रेरित हैं। यह सब उनकी छवि को खराब करने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने कहा, वह इस आदेश को हाई कोर्ट में चुनौती देंगे। साथ ही कहा कि, 2015 में योगेंद्र प्रताप ने जमीन पर अपना दावा किया था, उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा करेंगे।

Courtesy: .jansatta

Categories: Crime

Related Articles

Write a Comment