मोदी जी, क्या आप दरबारी पत्रकारों के सिवा ‘रवीश कुमार’ को इंटरव्यू दे सकते हैंः शत्रुघ्न सिन्हा

मोदी जी, क्या आप दरबारी पत्रकारों के सिवा ‘रवीश कुमार’ को इंटरव्यू दे सकते हैंः शत्रुघ्न सिन्हा

मोदी जी, क्या आप दरबारी पत्रकारों के सिवा ‘रवीश कुमार’ को इंटरव्यू दे सकते हैंः शत्रुघ्न सिन्हा

 

समाचार एजेंसी एएनआई को दिए गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इंटरव्यू को बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने स्क्रिप्टेड और फिक्स्ड इंटरव्यू बताया है। उन्होंने कहा कि इस इंटरव्यू का मकसद लोकसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी की छवि को सुधारना है।

गुरुवार को लगातार किए गए अपने ट्वीट्स में बीजेपी सांसद ने जमकर इंटरव्यू की आलोचना की। उन्होंने लिखा,

“सर, सोमवार शाम को हम सभी ने आपका स्क्रिप्टेड, कोरियोग्राफ्ड, अच्छी तरह से शोध और अभ्यास किया हुआ टीवी इंटरव्यू देखा। एंकर के प्रति पूरा सम्मान, स्मिता प्रकाश ने मौके के हिसाब से बिना तैयारी के सरल सवाल करके आपकी छवि को एक काबिल नेता के तौर पर संवारा है”।

सिन्हा ने आगे लिखा, “हम जानते हैं कि आप उनका सामना नहीं करना चाहते, लेकिन कम से कम बड़े राजनेता यशवंत सिन्हा और काबिल पत्रकार अरुण शौरी के सवालों के जवाब देने की हिम्मत रखें। हालांकि आप अपने साक्षात्कार में मस्त थे। लेकिन यह पिछले प्रदर्शनों के स्तर का नहीं था”।

 

बीजेपी सांसद ने पीएम मोदी द्वारा अपने कार्यकाल में एक भी प्रेस कॉन्फेंस न किए जाने पर निशाना साधते हुए लिखा, “अतीत में सभी माननीय प्रधानमंत्रियों ने प्रेस कॉन्फेंस की। लेकिन सर, आपने अपने साढ़े चार साल के कार्यकाल में एक भी नहीं की। क्यों सर”?

उन्होंने आगे लिखा, “आइए बिना ‘सरकरी’ मानसिकता के वास्तविक पत्रकारों और आपके नियमित ‘राग दरबारी’ कबीले से ताल्लुक न रखने वाले पत्रकारों की बात करते हैं। क्या आप टीवी एंकर, पत्रकार रवीश कुमार और द वायर के कंसल्टिंग एडिटर विनोद दुआ का सामना करने में असहज हैं।

एनडीए से छोटी पार्टियों के किनारा करने पर सिन्हा ने लिखा, “‘सब का साथ सबका विकास’, ‘राम जन्मभूमि’ आदि के बावजूद अलग-अलग लोग हमें क्यों छोड़ रहे हैं? आइए नए साल में स्वच्छ बनें, बिना नाटकीय प्रभाव के बोल्ड, ईमानदार और पारदर्शी हों”।

मोदी जी के इंटरव्यू से साबित हो गया कि 2019 में उनका झोला उठाने का वक़्त आ गया है : SP नेता

उन्होंने लिखा, “मैं बहुत विनम्रतापूर्वक एक दोस्त, सहकर्मी और भाई को सुझाव देता हूं कि वह इस पर विचार करें।

इसे स्वीकार करें, यह आपके और राष्ट्र के लिए अच्छा है, लेकिन अगर आप इसे अस्वीकार करते हैं तो भगवान हमपर कृपा करे। देशभर में चुनाव हैं, सर। लोकतंत्र ज़िंदाबाद! जय हिन्द”!

 

Courtesy: Bolta Hindustan 

Categories: Politics

Related Articles