गिरते निवेश पर राहुल ने मोदी-जेटली पर कसा तंज़- एक ‘व्यवस्था’ संभाल नहीं पाता है, दूसरा ‘अर्थव्यवस्था’ समझ नहीं पाता है

गिरते निवेश पर राहुल ने मोदी-जेटली पर कसा तंज़- एक ‘व्यवस्था’ संभाल नहीं पाता है, दूसरा ‘अर्थव्यवस्था’ समझ नहीं पाता है

कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गाँधी ने गिरते निवेश पर पीएम मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली को आड़े हाथों लिया। अपने अधिकारिक facebook पेज पर राहुल गाँधी ने लिखा कि,

“चौकीदार और उसके बड़बोले यार दोनों से उनका काम नहीं हो पाता है|

एक व्यवस्था संभाल नहीं पाता है|

दूसरा अर्थव्यवस्था समझ नहीं पाता है|

एक सवालों से डर कर भाग जाता है|

दूसरा आकर आम को इमली बताता है|

देश का नुक़सान होता जाता है|

पर इसमें उनका क्या जाता है?”

राहुल गाँधी की ‘एक सवालों से डर कर भाग जाता है|’ वाली लाइन पीएम मोदी के लिए थी। ज़ाहिर है कि दो दिन से मचे राफ़ेल घमासान पर वो संसद में आकर कुछ नहीं बोल रहे हैं। कल वो संसद न वो परसों संसद आए थे और न कल आए थे।
कांग्रेस अध्यक्ष का फ़ेसबुक पर ये बयान गिरती निवेश और कमज़ोर अर्थव्यवस्था के मद्देनज़र आया है।

बोलता हिंदुस्तान ने भी कल अपने पाठकों को ये बताया था कि, देश में निवेश की हालत बेहद ख़स्ताहाल है। इंडिया की आर्थिक हालत को लेकर सेंटर फ़ॉर मॉनीटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के ताज़ा जारी आँकड़ो के मुताबिक़,

दिसम्बर तिमाही (फ़ाईनेन्शियल इयर 2018-19) में नई परियोजनाओं से लेकर निवेश तक में बड़ी गिरावट दर्ज हुई है। इतनी गिरावट कि ये पिछले 14 सालों में सबसे नीचे आ गई है।

क्या होगा असर-

निवेश और नई परियोजनाओं की घोषणाओं में कमी का सीधा असर रोज़गार पर पड़ेगा। उद्योग-धंधे सुस्त होंगे और नए रोज़गार का सृजन मुश्किल होगा। ऐसे में बढ़ती बेरोज़गारी और बढ़ेगी।

Courtesy: bolthahindustan

Categories: India

Related Articles