जनता पर तेल की कीमतों की मार जारी, देश में फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, सरकार मौन

जनता पर तेल की कीमतों की मार जारी, देश में फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, सरकार मौन

देश में तेल की कीमतों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है। रविवार को भी पेट्रोल और डीजल के दाम में बढ़ोतरी हुई है। पेट्रोल की कीमतों में लगातार चौथे दिन इजाफा हुआ, जबकि डीजल के दाम में लगातार 11वें दिन बढोड़ती का सिलसिला जारी रहा।

तेल कंपनियों ने दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में पेट्रोल के भाव में 23 पैसे जबकि चेन्नई में 24 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की है। वहीं, डीजल के दाम दिल्ली में 29 पैसे और कोलकाता में 30 पैसे, जबकि मुंबई और चेन्नाई में 31 पैसे प्रति लीटर बढ़ोतरी की गई है।

दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में रविवार को पेट्रोल भाव क्रमश: 70.95 रुपये, 73.05 रुपये, 76.58 रुपये और 73.65 रुपये प्रति लीटर दर्ज किए गिए। चारों महानगरों में डीजल की कीमतें नई बढ़ोतरी के बाद क्रमश: 65.45 रुपये, 67.23 रुपये, 68.53 रुपये और 69.14 रुपये प्रति लीटर हो गई हैं।

जानकारों अनुसार, आने वाले दिनों में भी पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से जनता को राहत नहीं मिलने वाली है। तेल के देम और बढ़ सकते हैं। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में लागातार तेल के दाम बढ़ रहे हैं। जिसका सीधा असर भारत में पेट्रोल-डीजल कीमतों पर पड़ेगा। इसके साथ ही जनता को भी महंगाई के झटके सहने पड़ेंगे।

वहीं केंद्र की मोदी सरकार बढ़ते पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर मौन है। लोग यह सवाल पूछ रहे हैं कि अगर सरकार का तेल की कीमतों पर कोई नियंत्रण नहीं है तो चुनाव के दिनों में आखिर कैसे तेल की कीमतों पर लगाम लग जाती है। सवाल यह है कि आखिर चुनाव के दिनों में तेल के दाम क्यों नहीं बढ़ते हैं?

Categories: India

Related Articles