अगर कांग्रेस के साथ मिलकर लड़े अखिलेश-मायावती तो यूपी में 5 सीटों पर ठहर जाएगी बीजेपी

अगर कांग्रेस के साथ मिलकर लड़े अखिलेश-मायावती तो यूपी में 5 सीटों पर ठहर जाएगी बीजेपी

आगामी लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश का पूरा राजनीतिक परिदृश्य बदल गया है, जिसमें बीजेपी को भारी नुकसान होता दिख रहा है। एक सर्वे के अनुसार अगर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी यूपी में कांग्रेस को साथ लेकर लड़ती हैं तो बीजेपी 5 सीटों पर सिमट जाएगी।

आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर उत्तर प्रदेश से बीजेपी के लिए बुरी खबर है। पहले से ही प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन से घबराई बीजेपी को प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश कांग्रेस की कमान दिए जाने से बड़ा झटका लगा है। अभी बीजेपी इस झटके से उबरने के लिए बहाने ढूंढ ही रही थी कि एक न्यूज चैनल के सामने आए सर्वे ने पार्टी को पूरी तरह हिलाकर रख दिया है।

न्यूज चैनल आजतक के सर्वे मूड ऑफ द नेशन के नतीजे बीजेपी के लिए काफी चौंकाने वाले हैं। सर्वे के अनुसार आगामी लोकसभा चुनाव में एसपी-बीएसपी और आरएलडी का गठबंधन उत्तर प्रदेश की 80 में से 58 सीटें जीत सकता है। सर्वे में साफ कहा या है कि अगर तीनों दल मिलकर चुनाव लड़ते हैं तो पिछले चुनाव में 73 सीटें जीतने वाली बीजेपी और अपना दल का गठबंधन 18 सीटों तक सीमित हो सकता है।

लेकिन सर्वे में कहा गया है कि अगर मायावती और अखिलेश यादव के गठबंधन में आरएलडी के साथ-साथ कांग्रेस भी शामिल हो जाए तो उत्तर प्रदेश में बीजेपी की मिट्टी पलीद हो सकती है। सर्वे के अनुसार एसपी-बीएसपी-आरएलडी के साथ कांग्रेस के आने पर बीजेपी महज 5 सीट तक सिमट जाएगी। हालांकि, बीजेपी को वोट शेयर का ज्यादा नुकसान नहीं होगा और यह 2014 के 43.3 फीसदी से घटकर 36 फीसदी पहुंच जाएगा।

सर्वे के नतीजों के अनुसार साफ है कि अगर बीजेपी के खिलाफ उत्तर प्रदेश में महागठबंधन बना तो पार्टी का यहां सूपड़ा साफ हो जाएगा। बता दें कि 2014 में नरेंद्र मोदी के केंद्र की सत्ता तक पहुंचने में यूपी से मिली 73 सीटों का बड़ा योगदान थ। लेकिन सर्वे के नतीजे सच साबित हुए तो इस बार इसी यूपी की वजह से पीएम मोदी का केंद्र की गद्दी पर बैठना असंभव हो सकता है।

Categories: Politics

Related Articles