LIVE: क्या प्रियंका में भविष्य की प्रधानमंत्री के गुण दिखते हैं? इस सर्वे के आंकड़े आप जरूर देखें

LIVE: क्या प्रियंका में भविष्य की प्रधानमंत्री के गुण दिखते हैं? इस सर्वे के आंकड़े आप जरूर देखें

प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने बड़े भाई और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से करीब 15 साल बाद सक्रिय राजनीति में 47 साल की उम्र में कदम रखा है. तीन हफ्ते पहले कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को पार्टी का महासचिव बनाया था, तब से अबतक कांग्रेस के इस दांव से विरोधियों में खलबली मची हुई है. देशभर में चर्चा चल रही है कि क्या प्रियंका गांधी कांग्रेस को सहारा दे पाएंगी? प्रियंका के आने से पार्टी कार्यकर्ता जोश में हैं, लेकिन क्या यही जोश प्रियंका को लेकर देश के मतदाता भी दिखाएंगे? क्या प्रियंका मोदी-शाह की जोड़ी का सामना कर पाएंगी? प्रियंका को लेकर जनता क्या सोचती है

राजनीति में कदम रखते ही प्रियंका गांधी की तुलना उनकी दादी और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से होने लगी. ऐसे में एबीपी न्यूज़ और सी वोटर ने जनता से पूछा कि क्या प्रियंका दादी इंदिरा गांधी जैसी दिखती हैं? सर्वे के मुताबिक, 44 फीसदी लोगों का मानना है कि प्रियंका गांधी अपनी दादी इंदिरा गांधी के जैसी दिखती हैं. वहीं 42 फीसदी लोगों ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है. जबकि 13 फीसदी लोगों ने कहा कि उन्हें इस बारे में पता नहीं है.
कांग्रेस प्रियंका के चेहरे के सहारे माहौल खड़ा करने की कोशिश में है. जिससे मोदी लहर का सामना किया जा सके. वहीं उत्तर प्रदेश में एसपी-बीएसपी को टक्कर देने के लिए भी एक मजबूत चेहरे की तलाश प्रियंका पर खत्म हुई. ऐसे में एबीपी न्यूज़ और सी वोटर ने जनता से पूछा कि प्रियंका के आने के बाद आप किसे वोट देंगे? सर्वे के मुताबिक, 18 फीसदी लोगों ने कहा कि वह कांग्रेस को वोट देंगे. वहीं 33 फीसदी लोगों ने कहा कि वह महागठबंधन को वोट देंगे. जबकि 38 फीसदी लोगों ने कहा कि वह बीजेपी को अपना वोट देंगे.

राजनीति में कदम रखते ही प्रियंका गांधी की तुलना उनकी दादी और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से होने लगी. ऐसे में एबीपी न्यूज़ और सी वोटर ने जनता से पूछा कि क्या प्रियंका दादी इंदिरा गांधी जैसी दिखती हैं? सर्वे के मुताबिक, 44 फीसदी लोगों का मानना है कि प्रियंका गांधी अपनी दादी इंदिरा गांधी के जैसी दिखती हैं. वहीं 42 फीसदी लोगों ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है. जबकि 13 फीसदी लोगों ने कहा कि उन्हें इस बारे में पता नहीं है.

प्रियंका गांधी के राजनीति में आते ही विरोधी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर तंज कसने लगे. विरोधियों ने कहा कि प्रियंका को राजनीति में इसलिए लाया गया है क्योंकि राहुल गांधी फेल हो गए हैं. ऐसे में एबीपी न्यूज़ ने जनता से सवाल पूछा कि क्या राहुल फेल हो गए इसलिए प्रियंका आई? सर्वे के मुताबिक, 50 फीसदी लोगों का मानना है कि राहुल फेल हो गए इसलिए प्रियंका को लाया गया. जबकि 46 फीसदी लोगों ने कहा कि ऐसा नहीं है. वहीं, 4 फीसदी लोगों ने कहा कि उन्हें इस बारे में पता नहीं है.

क्या कांग्रेस ने सही समय पर प्रियंका गांधी को राजनीति में उतारा है? क्योंकि अब चुनाव में करीब-करीब ढाई महीने बचे हैं. ऐसे में प्रियंका गांधी वाड्रा को संगठन मजूबत करने का कम वक्त बचा है. एबीपी न्यूज़ ने सर्वे में इससे जुड़ा एक सवाल भी जनता से पूछा है. क्या प्रियंका ने सक्रिय राजनीति में आने में देर कर दी? सर्वे के मुताबिक, 74 फीसदी लोगों का मानना है कि प्रियंका ने राजनीति में आने में देरी कर दी. वहीं, 21 फीसदी लोगों का मानना है कि नहीं उन्होंने देरी नहीं की है. जबकि पांच फीसदी लोगों को इस बारे में पता नहीं है.

जबसे प्रियंका गांधी ने राजनीति में कदम ऱखा है, बीजेपी नेता उनके खिलाफ लगातार बयान दे रहे हैं. कोई उन्हें सुंदर चेहरा बता रहा है तो कोई चॉकलेटी चेहरा. ऐसे में एबीपी न्यूज़ ने लोगों से पूछा कि क्या प्रियंका के खिलाफ बयान देकर बीजेपी अपना नुकसान कर रही है? सर्वे के मुताबिक, 71 फीसदी लोगों का मानना है कि इससे बीजेपी का नुकसान होगा. जबकि 23 फीसदी लोगों ने कहा कि इससे बीजेपी को कोई नुकसान नहीं होगा. वहीं, 6 फीसदी लोगों ने कहा कि उन्हें इस बारे में कुछ नहीं पता.

तीसरा सवाल- प्रियंका के आने से त्रिकोणीय मुकाबले में बीजेपी को फायदा होगा? सर्वे के मुताबिक, 44 फीसदी लोग मानते हैं कि प्रियंका गांधी के आने से बीजेपी का फायदा होगा. जबकि 51 फीसदी लोगों का मानना है कि इससे बीजेपी को कोई फायदा नहीं होगा. वहीं, 5 फीसदी लोगों ने इसपर अपनी कोई राय नहीं दी.

दूसरा सवाल- प्रियंका के आने से बीजेपी का नुकसान होगा? सर्वे के मुताबिक, 52 फीसदी लोग मानते हैं कि प्रियंका गांधी के आने से बीजेपी को नुकसान होगा. जबकि 32 फीसदी लोगों का मानना है कि इससे महागठबंधन को नुकसान होगा. वहीं 8 फीसदी लोगों का मानना है कि प्रियंका के आने से किसी का नुकसान नहीं होगा.

पहला सवाल- प्रियंका के आने से कांग्रेस को कहां फायदा होगा? सर्वे के मुताबिक, 50 फीसदी लोग मानते हैं कि प्रियंका गांधी के आने से कांग्रेस को देशभर में फायदा होगा. जबकि 18 प्रतिशत लोगों का मानते हैं कि उत्तर प्रदेश में फायदा होगा. वहीं, 24 फीसदी लोग ऐसे हैं जो ये मानते हैं कि प्रियंका के आने से कांग्रेस को कोई फायदा नहीं होगा. 11 फरवरी को प्रियंका गांधी लखनऊ पहुंचने वाली हैं और वहीं से वह उत्तर प्रदेश की रणनीति तैयार करेंगी.

नई दिल्ली: प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने बड़े भाई और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से करीब 15 साल बाद सक्रिय राजनीति में 47 साल की उम्र में कदम रखा है. तीन हफ्ते पहले कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को पार्टी का महासचिव बनाया था, तब से अबतक कांग्रेस के इस दांव से विरोधियों में खलबली मची हुई है. देशभर में चर्चा चल रही है कि क्या प्रियंका गांधी कांग्रेस को सहारा दे पाएंगी? प्रियंका के आने से पार्टी कार्यकर्ता जोश में हैं, लेकिन क्या यही जोश प्रियंका को लेकर देश के मतदाता भी दिखाएंगे? क्या प्रियंका मोदी-शाह की जोड़ी का सामना कर पाएंगी? प्रियंका को लेकर जनता क्या सोचती है? ये जानने के लिए एबीपी न्यूज़ ने सी-वोटर के साथ मिलकर बड़ा सर्वे किया है.

Categories: India

Related Articles

Write a Comment