अगर राफेल पर कांग्रेस के दावे में दम नहीं होता तो अबतक PM मोदी JPC जांच करा लेतेः पंखुड़ी पाठक

अगर राफेल पर कांग्रेस के दावे में दम नहीं होता तो अबतक PM मोदी JPC जांच करा लेतेः पंखुड़ी पाठक

राफेल डील में एक सीक्रेट ईमेल सामने आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि ईमेल से साबित होता है कि पीएम मोदी ने अनिल अंबानी को वो सूचना दी जिसकी ख़बर रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री को भी नहीं थी।

मंगलवार को दिल्ली के कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस से बात करते हुए राहुल गांधी ने कहा, “एयरबस कंपनी के एग्जक्यूटिव ने ईमेल में लिखा है कि फ्रांस के रक्षा मंत्री के ऑफिस में अनिल अंबानी गए थे। मीटिंग में अंबानी ने कहा था कि जब पीएम आएंगे तो एक एमओयू साइन होगा, जिसमें अनिल अंबानी का नाम होगा। यानी राफेल डील में”।

उन्होंने कहा, “इसके बारे में न तो भारत के तत्कालीन रक्षा मंत्री को मालूम था, न ही एचएएल को न ही विदेश मंत्री को। लेकिन राफेल डील से 10 दिन पहले अनिल अंबानी को इस डील के बारे में मालूम था। इसका मतलब है कि प्रधानमंत्री अनिल अंबानी के बिचौलिये की तरह काम कर रहे थे”।

कांग्रेस अध्यक्ष ने इस मामले में पीएम मोदी पर मुकदमा चलाने की मांग करते हुए कहा कि पीएम मोदी ने जो जानकारी अनिल अंबानी को दी थी वह एक राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी गोपनीय जानकारी थी। पीएम मोदी ने गोपनीय जानकारी अनिल अंबानी को देकर अपराध किया है।

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार, सौदे की प्रक्रिया में गड़बड़ी और राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ खिलवाड़ इन तीनों मामलों में पीएम मोदी दोषी हैं। उनके ख़िलाफ़ मुकदमा चलाया जाना चाहिए। उन्हें जेल भेजना चाहिए। यह देशद्रोह का मामला है।

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर यह आरोप ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की उस ताज़ा रिपोर्ट के आधार पर लगाए हैं जिसमें एक ईमेल के हवाले से कहा गया है कि अनिल अंबानी ने पीएम मोदी के दौरे से कुछ दिन पहले फ्रांस के रक्षा मंत्री से पेरिस में मुलाकात की थी।

रिपोर्ट के मुताबिक, इस मुलाकात के दौरान राफेल को लेकर होने वाले एमओयू के बारे में अनिल अंबानी ने इस बैठक में चर्चा की थी।

इससे पहले भी कांग्रेस राफेल को लेकर केंद्र की मोदी सरकार और उद्योगपति अनिल अंबानी पर गंभीर आरोप लगा चुकी है। लेकिन अभी तक मोदी सरकार ने ख़ुद पर लग रहे आरोपों को ग़लत साबित करने के लिए इस मामले की जांच के आदेश नहीं दिए हैं और न ही अनिल अंबानी ने इन आरोपों का कोई जवाब दिया है।

समाजवादी पार्टी की पूर्व प्रवक्ता पंखुड़ी पाठक ने इसपर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा, “अगर राफेल पर कांग्रेस के ख़ुलासे में दम नहीं होता तो क्या श्री अनिल अंबानी इसी तरह चुप बैठे होते? कोई सफ़ाई नहीं देते? और प्रधानमंत्री जी? अगर चोरी में भागीदारी नहीं तो इतना बवाल होने ही क्यूँ दे रहे हैं? क्यूँ नहीं करवा लेते JPC जाँच? मतलब ‘चौकीदार’ की दाढ़ी में तिनका”!

Courtesy: boltahindustan

Categories: India

Related Articles

Write a Comment