आतंकी हमले पर बड़ा खुलासा! 8 फरवरी को ही इंटेलिजेंस विभाग को मिल गई थी सूचना, मिला दस्तावेज़

आतंकी हमले पर बड़ा खुलासा! 8 फरवरी को ही इंटेलिजेंस विभाग को मिल गई थी सूचना, मिला दस्तावेज़

पुलवामा में हुए आतंकी हमले में 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए तो सवाल उठने लगे कि आखिर इसके लिए जिम्मेदार कौन है।

मीडिया बार-बार ललकार रहा है, पाकिस्तान को मिटाने की धमकी दे रहा है, खून के बदले खून की बात कर रहा है, फिर से सर्जिकल स्ट्राइक करने की बात कर रहा है लेकिन सरकार और इंटेलिजेंस पर सवाल नहीं कर रहा है।

हालांकि अब इस मामले पर एक ऐसा दस्तावेज वायरल हो रहा है जिसके मुताबिक इंटेलिजेंस ने अलर्ट कर दिया था लेकिन मोदी सरकार की लापरवाही से हमने 40 से ज्यादा जवानों की खो दिया।

दरअसल इस दस्तावेज के मुताबिक, इंटेलिजेंस विभाग ने 8 फरवरी को ही मोदी सरकार को यह सूचना दे दी थी कि सीआरपीएफ के काफिले पर हमला हो सकता है।

इस दस्तावेज को शेयर करते हुए राजनीति विश्लेषक और तेजस्वी यादव के सलाहकार संजय यादव लिखते हैं-

‘8 फ़रवरी को ही सरकार को इंटेलिजेन्स विभाग से पुख़्ता सूचना मिल गयी थी कि CRPF के क़ाफ़िले पर हमला हो सकता है। लेकिन हमारे देश का सबसे बड़ा अभिनेता तो फ़िल्म के प्रमोशन में लगा हुआ मायानगरी के मायावी लोगों से पूछ रहा था ,”How’s josh?

और वो सब नकारा लोग ‘अभिनेताओं के अभिनेता’ 56 इंची को चने के झाड़ पर चढा रहे थे।

इस आदमी को जल्दी से उखाड़िए। यह ना तो किसान का भला कर रहा है , ना नौजवान का और ना ही जवान का।’

अगर ये दावा सच है तो बड़ा सवाल उठता है कि इंटेलिजेंस विभाग की चेतावनी के बावजूद इस हमले को रोकने के उचित प्रबंध क्यों नहीं किए गए ?

अगर सरकार इस देश को सुरक्षा देने वाले जवानों की ही सुरक्षा नहीं कर सकती तो फिर किसकी सुरक्षा कर सकती है ?

हालांकि इस इस दस्तावेज की सत्यता की पुष्टि बोलता हिंदुस्तान नहीं करता है लेकिन अगर ये सच है तो सवाल उठता है कि इतनी बड़ी लापरवाही क्यों

Categories: India

Related Articles