मोदी के 2014 के पहले वाले भाषण चला दें तो कांग्रेस को प्रचार की जरूरत नहीं: अशोक गहलोत

मोदी के 2014 के पहले वाले भाषण चला दें तो कांग्रेस को प्रचार की जरूरत नहीं: अशोक गहलोत

नई दिल्ली: 

लोकसभा चुनाव की तिथियों की घोषणा (Lok Sabha Election 2019 Date, Schedule) कर दी गई है. इस बार 7 चरणों में लोकसभा चुनाव होंगे (2019 Election) और 23 मई को नतीजे आएंगे. मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी घोषणा की. चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही कांग्रेस ने बीजेपी के खिलाफ हमलावर रुख और तेज कर दिया. राजस्थान के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने कहा कि मोदी ने जिस तरह का व्यवहार विपक्ष और संवैधानिक संस्थाओं के साथ किया उससे यही लगता है कि देश और संविधान खतरे में है. 5 साल में मोदी ने ऐसी कोई बात नहीं कही जो लोगों को छूती हो, वह लटके-झटके के साथ बात करते हैं जैसे कोई एक्टर एक्टिंग करता है, उस रूप में मोदी ने खुद को पेश किया और करोड़ो रुपए प्रचार में फूंक दिए. उन्होंने कहा कि मोदी अगर बॉलीवुड के एक्टर होते तो ज्यादा कामयाब होते. काम क्या किया इसका कुछ पता नहीं. राहुल गांधी का जिक्र करते हुए गहलोत ने कहा कि मोदी को सपने में भी राहुल गांधी दिखते हैं, रात दिन राहुल गांधी और उनके खानदान को कोसते रहते हैं. 23 मई को देश में नई सरकार बनेगी, बदलाव का वक्त आ गया है. सीएम गहलोत के मुताबिक आज डर और आतंक का माहौल है. लोग फोन पर बात नहीं करना चाहते. व्हाट्सएप पर बात होती है.

 

मीडिया के सवाल पर जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि तारीखों के एलान के बाद मीडिया को भी दबाव से निकल कर काम करना चाहिए. अगर मोदी के 2014 के पहले वाले भाषण चला दें तो कांग्रेस को प्रचार करने की जरूरत ही नहीं. उन्होंने कहा कि मोदी द्विअर्थी बात बोलते हैं, जो प्रधानमंत्री को शोभा नहीं देता. सेना के शौर्य पर शक करने का आरोप लगाते हैं. ये गलत है. राहुल ने पुलवामा के बाद कहा कि हम सरकार के साथ हैं. मोदी को विपक्ष की भूमिका की सराहना करनी चाहिए. जबकि वो चुनाव जीतने के लिए ध्यान भटका रहे हैं.  अगर दुनिया एयर स्ट्राइक पर सवाल उठा रही है तो विपक्ष का काम है सवाल पूछना. अमित शाह आंकड़ा दे रहे हैं जबकि वायु सेना प्रमुख ने कोई आंकड़ा नहीं दिया. चुनाव की तारीखों के ऐलान में हुई देरी के लिए गहलोत ने पीएम मोदी को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग की मंशा थी 4 तारीख को चुनाव का एलान करने की लेकिन मोदी के उद्घाटन कार्यक्रम के कारण देरी हुई. गठबंधन चुनाव से पहले भी होते हैं और बाद में भी. जरूरत के हिसाब से गठबंधन होगा.  एसपी-बीएसपी अगर अपना हित देख रहे हैं तो हमें उसकी सराहना करनी चाहिए.

 

वहीं कांग्रेस महासचिव ने भी बीजेपी और पीएम मोदी को निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि आज  कांग्रेस और विपक्ष एकजुट है. हमें विश्वास है कि हम मोदी सरकार को हराएंगे. ये सरकार  हर वादा पूरा करने में नाकाम रही है. खाते में 15 लाख, किसान की आय बढ़ाने, रोजगार, महिला सुरक्षा सभी मोर्चे पर सरकार फेल रही है. इसे ढकने के लिए फर्जी प्रोपोगेंडा किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि इस सरकार ने साम्प्रदायिक नीतियों के जरिए लोगों का बांटने का काम किया है. हम लोगों के पास जाकर अपनी बात रखेंगे. बदलाव का वक्त आ गया है. 23 मई को लोग नई सरकार चुनेंगे. वेणुगोपाल ने कहा कि मोदी इकलौते प्रधानमंत्री हैं जो ना जिम्मेदारी लेते हैं ना सवाल उन्होंने अपने वेबसाइट से घोषणापत्र भी हटा किया है क्योंकि उन्होंने वादे पूरे नहीं किए.

 

Categories: India

Related Articles