राफेल मामले में केंद्र ने फिर कहा, पिटीशनर ने चोरी करके कोर्ट में पेश किए दस्तावेज़

राफेल मामले में केंद्र ने फिर कहा, पिटीशनर ने चोरी करके कोर्ट में पेश किए दस्तावेज़

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट में फिर कहा, राफेल दस्तावेज़ चोरी हुए, इसके बाद कोर्ट में किए गए पेश
सुप्रीम कोर्ट में राफेल मामले की सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने फिर कहा है कि पिटीशनर ने चोरी करके कोर्ट में दस्तावेज़ पेश किए हैं। अटॉर्नी जनरल ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि साक्ष्य अधिनियम के तहत कोई भी संबंधित विभाग की इजाजत के बिना कोर्ट में गोपनीय दस्तावेज पेश नहीं कर सकता है।

अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कोर्ट से कहा कि कैग रिपोर्ट दायर करने में सरकार से चूक हुई है, उसमें तीन पेज गायब हैं। उन्होंने कहा कि वह इन पेज को भी रिकॉर्ड पर लाना चाहते हैं। अटॉर्नी जनरल ने कहा कि लीक हुई पेज के आधार पर दायर रिव्यू पिटीशन को हटाया जाए। सरकार का दावा है कि ये प्रिविलेज्ड डॉक्यूमेंट हैं।

जस्टिस सजंय किशन कौल ने अटॉर्नी जनरल से सवाल किया, अब किस तरह के प्रिविलेज की बात आप कर रहे हैं, यह दस्तावेज पहले ही कोर्ट में पेश किए जा चुके हैं। इस पर अटॉर्नी जनरल ने कहा कि उन्होंने चोरी कर यह दस्तावेज कोर्ट में पेश किए हैं। अब उनको सुनवाई का आधार न बनाया जाए। अटॉर्नी जनरल ने कहा कि नियमों के मुताबिक, स्टेट डॉक्यूमेंट बिना जरूरी इजाजत के छापे नहीं किए जा सकते।

Courtesy: navjivanindia

Categories: India

Related Articles

Write a Comment