प्रियंका ने ताबड़तोड़ ट्वीट कर योगी सरकार को घेरा, कहा- यूपी में झूठे प्रचार का है शोर, जनता की सुनवाई नहीं

प्रियंका ने ताबड़तोड़ ट्वीट कर योगी सरकार को घेरा, कहा- यूपी में झूठे प्रचार का है शोर, जनता की सुनवाई नहीं

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के आधार को मजबूत करने और लोकसभा चुनाव में अच्छे नतीजे की कोशिश में जुटीं पार्टी महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को कहा कि बीजेपी के नेता शिक्षा मित्रों की समस्या नहीं सुन रहे हैं बल्कि ‘टी शर्ट की मार्केटिंग’ करने में बिजी हैं।

बता दें कि, प्रियंका गांधी ने पिछले करीब 24 घंटे में चार ट्वीट कर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सीधा टारगेट किया है। जिसमें उन्होंने #Sanchibaat के साथ किसानों, शिक्षामित्रों, आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का मुद्दा उठाया और योगी सरकार को घेरा।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार की सुबह ट्वीट कर लिखा, “उत्तर प्रदेश के शिक्षामित्रों की मेहनत का रोज़ अपमान होता है, सैकड़ों पीड़ितों नें आत्महत्या कर डाली। जो सड़कों पर उतरे सरकार ने उनपर लाठियाँ चलाई, रासुका दर्ज किया। भाजपा के नेता टीशर्टों की मार्केट्टिंग में व्यस्त हैं, काश वे अपना ध्यान दर्दमंदों की ओर भी डालते।”

इससे पहले उन्होंने रविवार (24 मार्च) को ट्वीट कर लिखा, “उत्तर प्रदेश की आशाकर्मी 9 महीनों के लिए एक गर्भवती महिला के स्वास्थ की जिम्मेदारी उठाती हैं जिसके लिए उन्हें मात्र 600 रु मिलते हैं। भाजपा सरकार ने कभी उनकी मानदेय में बढ़ोतरी की सुध नहीं ली। उन्हें जुमले नहीं, जवाब चाहिए।”

वहीं एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, “उत्तर प्रदेश की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाएँ राज्य कर्मचारी का दर्जा माँग रही हैं। भाजपा सरकार ने उनकी पीड़ा सुनने के बजाय उनपर लाठियाँ चलवाई। मेरी बहनों का संघर्ष, मेरा संघर्ष है।” वहीं,

प्रियंका गांधी ने रविवार को गन्ना किसानों का भी मुद्दा उठाया था। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, “गन्ना किसानों के परिवार दिनरात मेहनत करते हैं। मगर उप्र सरकार उनके भुगतान का भी जिम्मा नहीं लेती। किसानों का 10000 करोड़ बकाया मतलब उनके बच्चों की शिक्षा, भोजन, स्वास्थ्य और अगली फसल सबकुछ ठप्प हो जाता है। यह चौकीदार सिर्फ अमीरों की ड्यूटी करते हैं, गरीबों की इन्हें परवाह नहीं।”

Categories: Politics

Related Articles