कांग्रेस ने लिया चार आईटी कंपनियों का साथ, डिजिटल रण में बीजेपी से ऐसे लेगी लोहा

कांग्रेस ने लिया चार आईटी कंपनियों का साथ, डिजिटल रण में बीजेपी से ऐसे लेगी लोहा

Lok Sabha Elections 2019: लोकसभा चुनाव में केंद्र की सत्ता पर काबिज भाजपा और उसके सहयोगी दलों को चुनौती देने के लिए मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने कमर कस ली है। करीब 134 साल पुरानी कांग्रेस ने डिजिटल रण में भाजपा को मात देने के लिए आईआईटीयन और NIFT जैसे कंपनियों का साथ लिया है। पिछले हफ्ते पार्टी ने सोशल मीडिया आउटरेच के लिए हितेश चावला (36) की गुड़गांव में डेटा-संचालित विज्ञापन कंपनी सिल्वरपुश को कॉन्ट्रैक्ट दिया। पार्टी ने इसके अलावा नीतीश अरोड़ा (38) की डिजिटल फर्म डिजाइन बॉक्सड को भी अनुबंध दिया है। यह कंपनी गुजरात के सूरत की है। मीडिया कम्यूनिकेशन कंपनी परसेप्ट और निकसुन को भी इसमें शामिल किया गया है। कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा और पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा के साथ एक समन्वय समिति, आगामी चुनावी अभियान के दौरान इन एजेंसियों की निगरानी करेगी। हालांकि इन कंपनियों के प्रमुख अपने काम के लिए आलाकमान से आगे के निर्देशों की तलाश में हैं।

कंपनियों का कहना है कि बड़े पैमाने पर चुनाव प्रचार से दो अप्रैल से शुरू होगा। हालांकि कंपनियों ने पिछले शनिवार को अपने #ShutDaFakeUp अभियान के साथ आम चुनाव के लिए जमीनी स्तर पर एक टेस्ट किया। डेटा केंद्रीत कंपनी के रूप में काम कर रही सिल्वरपुश कंटेंट क्रिएशन पर काम करेगी बल्कि पार्टी की अभियान रणनीति का आकलन करने के लिए सोशल मीडिया पैठ और बातचीत का विश्लेषण भी करेगी। सिल्वरपुश मतदाताओं तक अपनी पहुंच बनाने के लिए व्हाट्सएप और एसएमएस का भी इस्तेमाल कर रही है।

बता दें कि गुड़गांव की सिल्वरपुश ने कॉर्पोरेट मार्केटिंग स्पेस में “प्रासंगिक विज्ञापन” नामक लक्षित विज्ञापन के साथ अपनी पहचान बनाई, जहां उपभोक्ता अपने उपभोग की सामग्री के आधार पर विज्ञापन देखता है। उदाहरण के लिए अगर यूजर छुट्टियों के लिए वेबपेज देख रहा है तो कंपनी तुरंत अन्य प्लेटफार्मों और मीडिया पर हवाई टिकटों के विज्ञापन दिखाना शुरू कर देती है। हालांकि ऐसा पहली बार है जब सिल्वरपुश राजनीतिक रणभूमि में उतरने वाला है। मगर डिजाइन बॉक्सड साल 2015 में राजीतिक चुनाव प्रचार का काम संभाल चुकी है। कंपनी ने पंजाब में सांसदों के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से जुड़ी रणनीती तैयार की थी।

Categories: India

Related Articles