BJP विधायक बोले- मोदी साहब ने कैमरे लगवा रखे हैं, कांग्रेस को वोट दिया तो उन्हें पता लग जाएगा, फिर आपको काम नहीं मिलेगा

BJP विधायक बोले- मोदी साहब ने कैमरे लगवा रखे हैं, कांग्रेस को वोट दिया तो उन्हें पता लग जाएगा, फिर आपको काम नहीं मिलेगा

अहमदाबाद: 

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) का प्रचार कर रहे गुजरात के एक और विधायक ने मतदाताओं को धमकी दी है. फतेहपुरा से विधायक रमेश कटारा (Ramesh Katara) ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी साहब (PM Modi) ने मतदान केंद्रों में कैमरे लगा रखे हैं, अगर आपनेभाजपा (BJP) के अलावा किसी और को वोट दिया तो उन्हें पता लग जाएगा और फिर आपको कोई काम नहीं मिलेगा. 

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक विधायक ने जनसभा में मौजूद लोगों से कहा, ‘आपको ईवीएम पर कमल का निशान और जसवंत सिंह भाभोर (भाजपा उम्मीदवार) की तस्वीर नजर आएगी, आपको वही बटन दबाना है. वहां कोई गलती नहीं होनी चाहिए, क्योंकि मोदी साहब ने इस बार कैमरे लगवा रखे हैं. कौन भाजपा को वोट देगा और कौन कांग्रेस को वोट देता है, सब पता लग जाएगा. आधार कार्ड और सभी कार्डों पर आपकी तस्वीर है. अगर आपके बूथ पर कम वोट पड़ते हैं तो वह यह पता करने आएंगे कि किसने वोट नहीं दिया और फिर आपको कोई काम नहीं मिलेगा.’

बता दें, इससे पहले गुजरात के जल आपूर्ति मंत्री कुंवरजी बावलिया का एक वीडियो सामने आया था, जिसमें जब कुछ महिलाओं ने उनसे पीने के पाने की समस्या को लेकर शिकायत की तो उन्होंने जवाब में कहा कि क्या आप लोगों ने मुझे वोट दिया था. मोबाइल पर शूट किए गए वीडियो के वायरल होने के बाद मंत्री ने सफाई देते हुए कहा कि सवाल “अशिक्षित महिलाओं” ने किए थे और ये स्थानीय राजनीति से प्रेरित थे. कनसारा गांव में भाजपा उम्मीदवार के लिए प्रचार कर रहे मंत्री को गांववालों के गुस्से का सामना करना पड़ा था, इनमें ज्यादात्तर महिलाए थीं, जो शिकायत कर रही थीं कि आधे गांव को ही पीने का पानी मिल पाता है. इस पर मंत्री ने कहा कि पिछली बार केवल 55 फीसदी गांववालों ने ही मुझे वोट दिया था. 

मंत्री ने कहा था, ‘मेरे पास पूरा जल संशाधन मंत्रालय है, मैं सरकार में हूं. अगर जरूरत पड़ी तो मैं गांव में पानी की सप्लाई के लिए करोड़ों रुपये मंजूर कर सकता हूं. जब इस बार मैंने चुनाव लड़ा तो मुझे केवल 55 फीसदी वोट मिले. आप सब लोगों ने मुझे वोट क्यों नहीं दिया.’

बाद में रिपोर्टर ने जब उनसे सवाल किया तो बावलिया ने अपने बयान का बचाव करते हुए कहा कि प्रदर्शन करनी वाली महिलाएं अनपढ़ थीं और स्थानीय राजनीति से प्रेरित होकर उन्होंने सवाल पूछे थे. साथ ही उन्होंने कहा कि यह शिकायत उनके मंत्रालय की नहीं है, बल्कि स्थानीय पंचायत से जुड़ी हुई है. उन्होंने कहा, ‘मैंने उनसे कहा था कि यह पंचायत का मुद्दा है, इसका मेरे मंत्रालय से कोई लेना देना नहीं.’

बता दें, बावलिया ने पिछले साल कांग्रेस का साथ छोड़कर भाजपा ज्वाइन कर ली थी और उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया था. उन्होंने गुजरात की जसदण विधानसभा सीट पर उपचुनाव में जीत हासिल की थी. 

Categories: India

Related Articles

Write a Comment

<