बंगाल: रायगंज में वोटिंग के दौरान भारी हिंसा, मतदाताओं को वोट करने से रोका गया, मोहम्मद सलीम की गाड़ी पर हमला

बंगाल: रायगंज में वोटिंग के दौरान भारी हिंसा, मतदाताओं को वोट करने से रोका गया, मोहम्मद सलीम की गाड़ी पर हमला

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के लिए 12 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों की 95 सीटों पर वोटिंग जारी है. राज्यों में पश्चिम बंगाल भी शामिल है. यहां की तीन लोकसभा सीटों (जलपाईगुड़ी, दार्जीलिंग, रायगंज) पर आज वोट डाले जा रहे हैं. इस दौरान भारी हिंसा देखने को मिल रही है. भीड़ ने रायगंज के इस्लामपुर में सीपीएम नेता मोहम्मद सलीम की गाड़ी पर हमला कर दिया. हालांकि सलीम को किसी तरह की चोटें नहीं आई.

इससे पहले भीड़ ने एबीपी आनंदा के पत्रकार पर हमला कर दिया था और कैमरे तोड़ दिये. भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सुरक्षाबलों ने आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया. पत्रकार पर हमला करने का आरोप सत्तारूढ़ टीएमसी के कार्यकर्ताओं पर है.

दावा किया जा रहा है कि हिंसा फैलाने वाले लोगों ने स्थानीय लोगों को वोट करने से रोका. जिसके बाद लोगों ने एनएच 34 को जाम कर दिया. घटना इस्लामपुर के नॉर्थ दिनाजपुर के छोपरा की है.

हिंसा की वजह से स्थानीय लोग वोटिंग करने से हिचकते नजर आए. जिसके बाद पुलिस मतदाताओं को मनाने के लिए पहुंची और सुरक्षा देने का दावा किया. पूरे मामले में पश्चिम बंगाल के चुनाव आयोग ने जिला प्रशासन से रिपोर्ट मांगी है.

पश्चिम बंगाल बीजेपी की महासचिव और रायगंज से प्रत्याशी देवश्री ने दावा किया कि रायगंज के कोरोनेशन हाईस्कूल में टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने बूथ कैप्चर करने की कोशिश की.

रायगंज सीट पर 2014 में मोहम्मद सलीम ने जीत दर्ज की थी. इस सीट से कांग्रेस ने दीपा दासमुंशी को, बीजेपी ने देवश्री चौधरी को और टीएमसी ने कन्हैया लाल अग्रवाल को उम्मीदवार बनाया है.

रायगंज सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार 1952 से अब तक 13 बार चुनाव जीत चुके हैं. पार्टी के दिग्गज नेता प्रियरंजन दासमुंशी यहां से दो बार 1999 और 2004 में जीते. उनकी पत्नी दीपा दासमुंशी भी यहां से एक बार सांसद रही हैं. उत्तर दिनाजपुर जिले के रायगंज से चार बार सीपीएम के भी सांसद चुने गए हैं.

Categories: India

Related Articles