ताक पर कानून- अधिकारियों ने बच्चों को दे दी EVM, VVPAT की जिम्मेदारी

ताक पर कानून- अधिकारियों ने बच्चों को दे दी EVM, VVPAT की जिम्मेदारी

बिहार के छपरा में छठें चरण के मतदान से पहले लापरवाही की जीती-जागती तस्वीर सामने आई है। ईवीएम व वीवीपैट को लेकर सुरक्षा में लगे अधिकारी व कर्मी स्वयं इसकी धज्जियां उड़ा रहे हैं। चुनाव प्रक्रिया में सबसे संवेदनशील माने जाने वाले ईवीएम व वीवीपैट के मामले में संबंधित अधिकारी भी लापरवाह नजर आ रहे हैं। बाल श्रमिकों से इस ईवीएम व वीवीपैट की ढुलाई कराई जा रही है। हालांकि जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने इससे इंकार किया है।

पर यह तस्वीरें तो आईने की तरह साफ हैं। भले ही डीएम साहब इसे नकार दें लेकिन तस्वीर में कैद ये बच्चे खुद इसकी सच्चाई बयां कर रहे हैं। वहां जिला प्रशासन सारण के अधिकारियों के वाहन भी खड़े हैं। यह नजारा आप भी देखिए कि किस तरह महज 8,9 साल के बच्चे के सिर पर 4 – 4 ईवीएम को लाद कर उन्हें सेल से गाड़ी तक पहुंचने की जिम्मेवारो दे दी गई है।

यह तस्वीर है छपरा के जयप्रकाश इंजीनियरिंग कॉलेज परिसर की है जहां पोलिंग पार्टी को ईवीएम को सुरक्षित ले जाने, चुनाव करा कर सुरक्षित वापस करने की जिम्मेवारी दी गई है, लेकिन यह अपनी जिम्मेवारी के प्रति कितने लापरवाह है पोलिंग पार्टी के सदस्यों ने बच्चों को चिलचिलाती धूप में ईवीएम व वीवीपैट लाद दिया और बाहर तक पहुचाने की जिम्मेवारी दे दी। डीएम  जब मामले को देखने पहुंच गए तो बच्चों को वहां से भगा दिया गया।

Categories: India

Related Articles