झारखंड लिंचिंग: परिजनों का सनसनीखेज आरोप- तबरेज अंसारी को पिलाया गया था ‘जहर’

झारखंड लिंचिंग: परिजनों का सनसनीखेज आरोप- तबरेज अंसारी को पिलाया गया था ‘जहर’

झारखंड में भीड़ की हिंसा के शिकार तबरेज अंसारी के एक संबंधी ने सनसनीखेज आरोप लगाया है कि तबरेज को जहरीला पानी दिया गया था। बता दें कि तबरेज को बाइक चुराने के संदेह में हिंदुत्व भीड़ द्वारा बुरी तरह से पीटा गया था और उसकी बाद में मौत हो गई थी। NDTV के मुताबिक, तबरेज के चाचा मोहम्मद मसरूर ने कहा, “तबरेज की पिटाई के बाद उसे धतूरा मिला पानी दिया गया था।” उन्होंने कहा, “पुलिस द्वारा तत्काल आरोपपत्र दाखिल किया जाना चाहिए और आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए।”

इस मामले में मुख्य आरोपी सहित 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और मामले में दो पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है। कांग्रेस, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो), राष्ट्रीय जनता दल (राजद) व वाम पार्टियों ने बुधवार को राज्यपाल के आवास पर धरना दिया और मामले की सीबीआई जांच की मांग की। अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष मोहम्मद कमाल खान ने मंगलवार को गांव का दौरा किया।

तबरेज अंसारी (22) की 17 जून को बाइक चोरी करने के संदेह में सेराईकेला जिले के धतकीडीह गांव में भीड़ द्वारा बर्बरतापूर्वक पिटाई करने के कुछ दिनों बाद 22 जून को एक अस्पताल में मौत हो गई। पुलिस के अनुसार, उसके पास से एक चोरी की मोटरसाइकिल और कुछ अन्य चीजें बरामद की गई हैं। यह मामला एक वीडियो के वायरल होने के बाद प्रकाश में आया। इस वीडियो में आरोपी, अंसारी को पीटते हुए दिख रहे हैं।

वायरल वीडियो में ग्रामीण पेड़ से बंधे अंसारी को बेरहमी से पीटते हुए नजर आ रहे थे। साथ ही वीडियो में तबरेज से जबरन जय श्रीराम कहलवाने की कोशिश की जा रही है। तबरेज को एक पोल से बांधा गया और फिर उसे बुरी तरह से पीटा गया। इसके साथ ही जबरन उससे ‘जय श्री राम’ और ‘जय हनुमान’ के नारे लगवाए गए। उसके बेहोशी हालत में ही उसे पुलिस को सौंप दिया गया, पुलिस हिरासत में चार दिन बाद उसकी मौत हो गई।

तबरेज अंसारी की पत्नी शाइस्ता परवीन ने सेराईकेला पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कारई है। उन्होंने आरोप लगाया है कि जमशेदपुर से बाइक से लौटने के दौरान तबरेज को कुछ लोगों ने पकड़ लिया। तबरेज को पेड़ से बाधा गया और निदर्यतापूर्वक पीटा गया और ‘जय श्रीराम’ बोलने के लिए मजबूर किया गया।

पीएम मोदी ने तोड़ी चुप्पी

झारखंड में भीड़ द्वारा तबरेज अंसारी की हत्या पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए बुधवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि इससे उन्हें पीड़ा पहुंची है तथा दोषियों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए। साथ ही उन्होंने झारखंड को भीड़ की हिंसा (मॉब लिंचिंग और मॉब वायलेंस) का अड्डा बताने और एक घटना की वजह से पूरे राज्य के नागरिकों को कटघरे में खड़ा करने को अनुचित बताया।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘झारखंड में एक युवक की हत्या के बाद झारखंड को मॉब लिंचिंग और मॉब वायलेंस का अड्डा बताया गया। युवक की हत्या का दुख यहां हम सभी को है। मुझे भी है। दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा भी मिलनी चाहिए। लेकिन क्या पूरे झारखंड राज्य को दोषी बता देना शोभा देता है?’’


उन्होंने कहा कि जो लोग बुरा करते हैं उन्हें अलग थगल किया जाए और न्यायिक प्रक्रिया के तहत इंसाफ होने देना चाहिए। मोदी ने कहा, ‘‘सभी को कटघरे में खड़ा कर राजनीति तो कर लेंगे लेकिन स्थितियां नहीं सुधार पाएंगे। इसलिए पूरे झारखंड को बदनाम करने का हममें से किसी को हक नहीं है। वे भी हमारे देश के नागरिक हैं।’’


उन्होंने इस समस्या के समाधान का जिक्र करते हुए कहा कि अपराध होने पर उचित रास्ता कानून और न्याय से संविधान, कानून और व्यवस्थाएं पूरी तरह से सक्षम हैं और इसके उपाय के लिए भी कानूनी व्यवस्था है। इसके लिये न्यायिक व्यवस्था है और इसके लिए हमें जितना कुछ करना जरूरी हो वह सब कुछ करना चाहिए।

Categories: Crime

Related Articles