किसानों की खुदकुशी का सिलसिला जारी, एक और किसान ने दी जान, संसद में राहुल गांधी उठा चुके हैं सवाल

किसानों की खुदकुशी का सिलसिला जारी, एक और किसान ने दी जान, संसद में राहुल गांधी उठा चुके हैं सवाल

मोदी सरकार में किसानों की खुदकुशी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में एक किसान ने कर्ज से तंग होकर आत्महत्या कर ली है। श्रीकाकुलम जिले के मंडसा गांव में हुई इस घटना में किसान ने पेड़ से लटककर आत्महत्या कर ली।

मंडसा गांव के सब इंस्पेक्टर के मुताबिक, “ किसान ने पेड़ से लटक कर आत्महत्या कर ली है। किसान के परिवार का कहना है कि उसने कर्ज चुकाने में असमर्थता के कारण आत्महत्या कर ली।” वहीं किसानों की आत्महत्या पर विधानसभा में आंध्र प्रदेश के सीएम वाइएस जगनमोहन रेड्डी ने बताया है कि राज्य में 2014 से 2019 के बीच 1,513 किसानों ने आत्महत्या की है।

इससे पहले केरल के वायनाड में एक किसान ने खुदकुशी कर ली थी। कर्ज से परेशान किसानों द्वारा खुदकुशी से आहात कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने संसद में गुरूवार को मुद्दा उठाया था।

उन्होंने मोदी सरकार द्वारा किसानों की अनदेखी करने की बात कही थी। लोकसभा में भाषण देते हुए राहुल गांधी ने कहा था, “ पूरे देश में आज किसान कई समस्याओं से जूझ रहे हैं। मैं सरकार का ध्यान केरल में किसानों की दयनीय दशा की तरफ खींचना चाहता हूं। मुझे इस सदन में यह बताते हुए बेहद दुख हो रहा है कि बुधवार को वायनाड में कर्ज में डूबे एक किसान ने आत्महत्या की थी। इसके अलावा बैंकों का लोन न चुकाने की वजह से 8 हजार किसानों को बैंकों की तरफ से नोटिस भेजा गया है।”

उन्होंने कहा था कि, “किसानों द्वारा लोन न चुकाने को लेकर बैंक किसानों को उनकी प्रॉपर्टी के कागज अटैच कर उन्हें धमिकयां दे रहे हैं। इसी वजह से राज्य के किसान आत्महत्या कर रहे हैं। पिछले डेढ़ साल में जब से बैंक ने अपनी लोन रिकवरी प्रक्रिया शुरू की है, तब से अब तक केरल में 18 किसान आत्महत्या कर चुके हैं।”

Categories: India

Related Articles

Write a Comment

<