‘आजकल ट्रैक्टर वाले भी ओला-उबर इस्तेमाल कर रहे हैं क्या?’, ऑटो सेक्टर में मंदी पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बयान पर लोगों ने ली चुटकी

‘आजकल ट्रैक्टर वाले भी ओला-उबर इस्तेमाल कर रहे हैं क्या?’, ऑटो सेक्टर में मंदी पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बयान पर लोगों ने ली चुटकी

भारत में ऑटो मोबाइल सेक्टर लगातार मंदी के दौर से गुज़र रहा है। ऑटो सेक्टर के खराब हालतों को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार (10 सितंबर) को इस संबंध में बयान भी दिया। उन्होंने कहा कि, युवा वर्ग नई कार के लिए ईएमआई का भुगतान करने से अधिक ओला और उबर जैसी आनलाइन टैक्सी सेवा का उपयोग करना पसंद कर रहा है। इसका असर ऑटो मोबाइल इंडस्ट्री पर पड़ा है। अपने इस बयान को लेकर निर्मला सीतारमण जमकर ट्रोल हो रही हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऑटो मोबाइल सेक्टर में चल रही गिरावट के पीछे ओला और उबर जैसी आनलाइन टैक्सी सर्विस को ज़िम्मेदार ठहराया है। वित्त मंत्री ने मंगलवार को अपने बयान में कहा, ”ऑटो मोबाइल इंडस्ट्री पर बीएस-6 और लोगों की सोच में आए बदलाव का असर पड़ रहा है, लोग अब गाड़ी खरीदने की बजाय ओला या उबर को तरजीह दे रहे हैं।”

अगस्त में लगातार दसवें महीने गाड़ियों की बिक्री नीचे गिरी है। पिछले महीने बीते 21 साल में सबसे कम कारों की बिक्री हुई। ऑटो निर्माता कंपनी सिएम (SIAM) के मुताबिक, घरेलू बाज़ार में इस महीने कारों की बिक्री में 41 फीसदी से ज़्यादा गिरावट दर्ज की गई। ऑटो मोबाइल सेक्टर में जारी इस गिरावट पर वित्त मंत्री का ऐसा बयान सुनकर सोशल मीडिया यूजर्स अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

पत्रकार साक्षी जोशी ने लिखा, “आजकल ट्रैक्टर वाले भी ओला-उबर इस्तेमाल कर रहे हैं क्या?” वहीं, संजय राघव नाम के एक यूजर ने लिखा, “ओला बदनाम हुई अर्थव्यवस्था तेरे लिये।” वहीं, गोपी शाह नाम के एक यूजर ने लिखा, “अंडरगारमेंट्स इंडस्ट्री में भी मंदी छाई है मैडम, क्या लोगों ने पत्ते बांधने शुरू कर दिया है।” कांग्रेस नेता संजय झा ने ट्वीट लिखा, ”2.7 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था को ओला और ऊबर नीचे ला रही है। क्या कूल हैं हम”

विवेकानंद सिंह नाम के यूजर ने लिखा, “मंत्री मैडम आप गलत कह रही हैं! मंदी ओला-उबर के कारण नहीं, बल्कि बड़ी आबादी के कारण आयी है। क्योंकि, लोग सड़कों पर होने वाले जाम के डर से कार खरीद ही नहीं रहे। इसलिए ऑटो सेक्टर में मंदी आयी है।”

जोकर नामक के ट्विटर हैंडल ने लिखा, ”अच्छा हुआ अरविंद केजरीवाल सरकार की फ्री मेट्रो सेवा शुरू नहीं हुई, वरना इलज़ाम उन पर लगा देते की दिल्ली में मेट्रो फ़्री हो गई है इसलिए लोग गाड़ी नहीं खरीद रहे।” इसी तरह तमाम यूजर्स निर्मला सीतारमण के इस बयान पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहें है।

Categories: India

Related Articles