वायु प्रदूषण की चपेट में आए भगवान भी, मंदिरों में मूर्तियों पर चढ़े मास्क

वायु प्रदूषण की चपेट में आए भगवान भी, मंदिरों में मूर्तियों पर चढ़े मास्क

पुजारी ने बताया कि जब लोगों ने प्रतिमाओं को मास्क पहने हुए देखा तब वे भी प्रदूषण से बचाव के लिए खुद मास्क पहनने लगे. कई लोगों ने इन प्रतिमाओं से सीख ली. छोटे बच्चे भी प्रदूषण से बचाव के लिए जागरूक हो रहे हैं.

  • पुजारी बोले- प्रतिमाओं पर मास्क देख लोग होंगे जागरूक
  • उत्तर भारत के शहरों में वायु प्रदूषण, धर्म नगरी वाराणसी भी चपेट में

वाराणसी से अनोखा मामला सामने आया है. यहां वायु प्रदूषण का स्तर देख लोगों ने खुद ही मास्क नहीं पहने बल्कि भगवानों की प्रतिमाओं को भी मास्क पहना दिए हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में लोगों का कहना है कि हवा में बढ़ते प्रदूषण से इंसान ही नहीं, भगवान भी परेशानी में हैं.

दीपावली के बाद बढ़ा वायु प्रदूषण

दीपावली के बाद दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत के अधिकतर हिस्से में वायु प्रदूषण का कहर जारी है. इसकी चपेट में धर्म नगरी वाराणसी भी आ चुकी है. काशी के लोग प्रदूषित हवा से बचने के लिए इन दिनों मास्क पहने नजर आ रहे हैं. वहीं वाराणसी के सिगरा स्थित काशी विद्यापीठ विद्यालय के नजदीक स्थित भगवान शिव पर्वती के मंदिर में स्थापित प्रतिमाओं को यहां के पुजारी और कुछ भक्तों ने मास्क पहना दिया है.

पुजारी हरीश मिश्रा ने समाचार एजेंसी आईएएनएस से कहा, ‘वाराणसी आस्था की नगरी है. हम आस्थावान लोग भगवान के इंसानी रूप को महसूस करते हैं. गर्मी में भगवान की प्रतिमाओं को शीतलता प्रदान करने के लिए चंदन लेपन करते हैं. शरद ऋतु में इन्हें कंबल और स्वेटर भी पहनाए जाते हैं. जब हम इन्हें इंसानी रूप में मानते हैं तो उन पर भी प्रदूषण का असर हो रहा होगा इसीलिए यहां स्थित प्रतिमाओं को हमने मास्क पहना दिया है.’


लोगों ने भगवान की प्रतिमाओं को पहनाए मास्क

पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भगवानों को प्रदूषण से बचाने के लिए पहनाए गए मास्क

प्रदूषण से बचाव के लिए भगवान को पहनाए मास्क

उन्होंने बताया कि बाबा भोलेनाथ, देवी दुर्गा, काली माता और साईं बाबा का पूजन करने के बाद उन्हें मास्क पहना दिया गया है. पुजारी ने बताया कि जब लोगों ने प्रतिमाओं को मास्क पहने हुए देखा तब वे भी प्रदूषण से बचाव के लिए खुद मास्क पहनने लगे. कई लोगों ने इन प्रतिमाओं से सीख ली.  छोटे बच्चे भी प्रदूषण से बचाव के लिए जागरूक हो रहे हैं.

हरीश मिश्रा ने बताया कि उन्होंने प्रतिमाओं को कई घंटे तक मास्क पहनाए रखा. जब काली जी की प्रतिमा में मास्क लगाया गया तो उनकी जीभ ढक गई थी. शास्त्र के अनुसार, उनकी जिह्वा ढकनी नहीं चाहिए. इसीलिए बाद में उनका मास्क उतार दिया गया.

गंगा के घाटों पर छाई धुंध

पुजारी ने कहा, ‘अब प्रदूषण कुछ कम होने लगा है. यदि आगे प्रदूषण बढ़ा तो प्रतिमाओं को मास्क लगातार पहनाया जा सकता है.’ उन्होंने बताया कि दीपावली में लोगों ने पूरे प्रदेश में इतने ज्यादा पटाखे छोड़े हैं कि उसके दूसरे दिन से यहां पर और गंगा के घाटों पर धुंध सी छाई रहती है. इससे आंखों में जलन और सांस भी फूलने लगती है. लोगों ने पेड़-पौधे भी काट डाले हैं, इसलिए यहां के वातावरण में ऑक्सीजन की कमी महसूस की जा रही है.

मिश्रा ने कहा कि वायु प्रदूषण से जूझ रहे बनारस की आबो-हवा ठीक करने के लिए लोगों को खुद आगे आना पड़ेगा. लोग त्योहार धूम-धाम से मनाएं, पर सेहत का ख्याल जरूर रखें. उन्होंने कहा, ‘धुंध को लेकर हाय-तौबा मचने के बावजूद नगर निगम के कर्मचारी सड़कों पर कूड़ा जलाने से बाज नहीं आ रहे हैं. नगवां, नरिया, सिगरा, जैतपुरा सहित कई स्थानों पर कूड़ा जलता पाया जाता है. यह और जहर बन रहा है. यह हमारे मंदिरों के वातावरण को भी खराब कर रहा है.’

पुजारी ने बताया कि यहां पर प्रदूषण लेवल बहुत ज्यादा बढ़ गया है. स्मॉग से निबटने के लिए फायर फाइटिंग टीम को तैनात करना पड़ा. शहर में फायर ब्रिगेड टीमें पेड़-पौधों पर पानी की फुहार के साथ ही उनपर जमी धूल को झाड़ने के लिए प्रयास कर रही हैं. यहां हवा में पीएम 2.5 का इंडेक्स 500 के करीब पहुंच चुका है.


Categories: India

Related Articles

Write a Comment

<