Opinion

Back to homepage
Opinion

पश्चिम उत्तरप्रदेश: चीनी के कटोरे से दंगों का केंद्र तक  का  आंकलन पार्ट-2

    जैसे जैसे यूपी का चुनाव नजदीक आ रहा, राजनीतिक  दलो  की धड़कने तेज़ होती जा रही है| आरोप, प्रत्यारोप का दौर तेज़ी से आगे बढ़ रहा| हर किसी

Opinion

पश्चिम उत्तरप्रदेश: चीनी के कटोरे से दंगों का केंद्र तक  का  आंकलन पार्ट-१

पश्चमी उत्तर प्रदेश में 15 ज़िलों के 73  विधानसभा सीट पे पहले चरण में मतदान होना है| भाजपा ने पश्चमी उत्तर प्रदेश को सोशल एक्सपेरिमेंट करने के लिए प्रासयोगसाला की

Opinion

क्या कांग्रेस ही पंजाब में एक मात्र विकल्प है?

    पंजाब का नाम सुनते ही एक समय पर वहाँ के लहलहाते खेतों का दृश्य सामने आता था। पंजाब का नाम उसकी हरित क्रांति के लिए भी बहुत मशहूरहुआ।

Opinion

मोदी से ट्रम्प तक: मजबूत नेता की मजबूरियाँ  

  ये एक महज संयोग था या आने वाले भविष्य के तरफ इशारा, 8 नवम्बर की शाम में जब  भारत के प्रधानमंत्री 500/1000 के नोटबंदी की घोषणा कर रहे थे,

Opinion

राहुल गाँधी का नाम सुनते ही क्यों आता है स्मृति ईरानी को गुस्सा?

अभी हाल ही में भाजपा की पूर्व कार्यकर्ता की एक किताब “I am a Troll” सामने आयी है जिसमे लेखिका ने खुलासा किया है कि कैसे भाजपा ने ट्विटर और

Opinion

मोदी राज में 1 फीसदी लोग 58 फीसदी  दौलत जमा कर रखे है-ये काला  धन नहीं तो  क्या है?

    भारत वर्ष के 57 परिवार देश के 70 फीसदी  दौलत के मालिक है| आज सुबह जब ऑक्सफेम ने ये रिपोर्ट जारी की तो सभी भौचक्के रह गए| एक

Opinion

मोदी सरकार से नोटबंदी पर दस सवाल

  नए साल में नयी उम्मीद के साथ हम सब नए जोश से काम शुरू करते है| पुराने साल के गलत सही फैसलों का लेखा जोखा करते है| लेकिन ये

Opinion

रिपोर्ट – UPA सरकार ने बनाया था नौकरियों का रिकॉर्ड

वर्ष 2003 – 2004 से 2011 – 2012 तक, जब मनमोहन सिंह सरकार सत्ता में थी वह समय देश की अर्थव्यवस्था के लिए सुनहरा दौर था। आज़ाद भारत ने पहली

Opinion

मोदी के नोट बदलने के तुगलकी फरमान के खिलाफ थे रघुराम राजन

जैसे जैसे वक़्त बीत रहा है और नये आर्थिक फ़ैसले आ रहे वैसे वैसे राजनीति के गलियारों में सामने आ रही है रघुराम राजन के छोड़ने की वजह| मोदी सरकार

Opinion

क्या Paytm के ज़रिए चीनी कंपनी को फायदा?

लगभग दो दर्जन चीनी कंपनी अलीबाबा के कर्मचारी वर्तमान में नोएडा में Paytm के कार्यालय में डेरा डाले हुए हैं l वह कुछ वरिष्ठ स्थानीयअधिकारियों के साथ मिलकर अलीबाबा के ई-कॉमर्स पोर्टल को भारतीय कंपनी के बाजार में परिवर्तित करने के लिए काम कर रहे l मामले से परिचित दो लोगों ने कहा, चीनी अधिकारी पेटीएम के ई-कॉमर्स साइट के साथ अलीबाबा कंपनी के डिजिटल मंच को मिलाने का कामकर रहें हैं l एक अधिकारी का यह भी कहना था कि चीनी कंपनी अलीबाबा और उसकी सहयोगी कंपनी का Paytm कंपनी में 40% की हिस्सेदारीहै l हालाँकि Paytm ने ऐसे किसी भी गठबंधन की संभावना से इनकार किया है और यह बयान दिया है कि दोनो कंपनिया एक दूसरे के दफ़्तर मेंअक्सर जाया करती हैं ताकि एक दूसरे का सुझाव मिल सके l यह मामला इसीलिए भी गंभीर हो जाता है क्योंकि इस साप्ताह नोट बंद करने के सरकार के फ़ैसले से Paytm कंपनी को काफ़ी फायदा हुआ है l पैसा जेब में ना होने के कारण काफ़ी लोगों ने Paytm के द्वारा दी गई कॅशलेस भुक्तांन करने की सुविधा का इस्तेमाल किया है l Paytm कंपनी नेतुरंत इसका फायदा उठाते हुए प्रधानमंत्री की तस्वीर के साथ अख़बार मे एड भी दिया था जिसकी काफ़ी आलोचना भी की गई थी l पर अगर इसकेज़रिए किसी चीनी कंपनी को फायदा पहुचता है ख़ासकर उस समय जब ग़रीब आदमी पूरा दिन बॅंक की लाइन के धक्के खा रहा है तो यह काफ़ीचिंता की बात है l इस खबर में कितनी सच्चाई है यह तो वक्त के साथ सामने आ ही जाएगा पर चीनी कंपनी का Paytm के दफ़्तर में होना कुछ तोइशारा करता ही है l Data source- Times of India, 3 November 2016